PM मोदी ने अबू धाबी के वली अहद और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री को दी ईद की मुबारकबाद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2020   22:02
PM मोदी ने अबू धाबी के वली अहद और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री को दी ईद की मुबारकबाद

हमने चक्रवात अम्फान के प्रभाव के बारे में और कोविड-19 महामारी की मौजूदा स्थिति पर चर्चा की। इस चुनौतीपूर्ण समय में बांग्लादेश को भारत की ओर से सहयोग जारी रखने की प्रतिबद्धता भी दोहराई।

नयी दिल्ली।  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को अबू धाबी के वली अहद (क्राउन प्रिंस) शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान और बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना को ईद की मुबारकबाद दी। उन्होंने कोरोना वायरस महामारी के चलते उभर रही स्थिति पर चर्चा भी की। मोदी ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘मोहम्मद बिन जायद और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के लोगों को ईद की मुबारकबाद।’’ प्रधानमंत्री ने यूएई में भारतीय नागरिकों का सहयोग करने को लेकर वली अहद का शुक्रिया भी अदा किया, जो यूएई सशस्त्र बलों के उप सर्वोच्च कमांडर हैं। उन्होंने कहा, ‘‘भारत-यूएई सहयोग कोविड-19 चुनौती के दौरान और मजबूत हुआ है। ’’ बाद में एक आधिकारिक बयान में कहा गया कि दोनों नेताओं ने कोविड-19 महामारी के दौरान दोनों देशों के बीच कारगर सहयोग को लेकर संतोष भी प्रकट किया। इसमें कहा गया है, ‘‘प्रधानमंत्री ने यूएई में भारतीय नागरिकों की मदद करने के लिये वली अहद का शुक्रिया अदा किया।’’

प्रधानमंत्री हसीना के साथ अपनी चर्चा में मोदी ने उन्हें और बांग्लादेश के लोगों को ईद-उल-फितर की मुबारकबाद दी। उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘हमने चक्रवात अम्फान के प्रभाव के बारे में और कोविड-19 महामारी की मौजूदा स्थिति पर चर्चा की। इस चुनौतीपूर्ण समय में बांग्लादेश को भारत की ओर से सहयोग जारी रखने की प्रतिबद्धता भी दोहराई।’’ एक अन्य बयान में कहा गया है कि दोनों नेताओं ने चक्रवात अम्फान से हुए नुकसान का अपना-अपना आकलन भी साझा किया। इसमें कहा गया है, ‘‘दोनों नेताओं ने कोविड-19 महामारी और इस बारे में दोनों देशों के बीच जारी सहयोग पर भी चर्चा की।’’ प्रधानमंत्री मोदी ने बांग्लादेश को इन चुनौतियों से निपटने में भारत के सहयोग का वादा किया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।