प्रधानमंत्री मोदी ने की सेना प्रमुख मुकुंद नरवणे से मुलाकात, राहत कार्य पर हुई चर्चा

प्रधानमंत्री मोदी ने की सेना प्रमुख मुकुंद नरवणे से मुलाकात, राहत कार्य पर हुई चर्चा

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने देश में तबाही मचा दी है। ऐसे में देश की सेनाएं इस महामारी से निपटने और लोगों की जान बचाने के लिए युद्ध स्टर पर काम कर रही हैं। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आर्मी चीफ मुकुंद नरवणे से मुलाकाल की।

कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने देश में तबाही मचा दी है। ऐसे में देश की सेनाएं इस महामारी से निपटने और लोगों की जान बचाने के लिए युद्ध स्टर पर काम कर रही हैं। आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आर्मी चीफ मुकुंद नरवणे से मुलाकाल की। सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे से पीएम ने मुलाकात की और कोरोना वायरस से निपटने के लिए राहत कार्यों की समीक्षा की है। कोविड 19 से युद्ध में भारतीय सेना प्रमुख भूमिका निभा रही है। ऑक्सीजन से लेकर ऑस्पताल तक बनाने में सेना लगी हुई है। जमीनी स्टर पर उतर कर सेना के जवान लोगों की मदद कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: केंद्र सरकार का दावा, राज्यों के पास कोविड-19 वैक्सीन की एक करोड़ से ज्यादा डोज उपलब्ध 

मुलाकात के दौरान  मुकुंद नरवणे ने पीएम को बताया कि सेना कोरोना संक्रमित मरीजों के लिए अस्थाई अस्पताल बना रही हैं और मदद का हर प्रयास कर रही हैं। जनरल एमएम नरवने ने पीएम को बताया कि सेना के मेडिकल स्टाफ को विभिन्न राज्य सरकारों को उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने पीएम को यह भी बताया कि सेना देश के विभिन्न हिस्सों में अस्थायी अस्पताल स्थापित कर रही है।

इसे भी पढ़ें: इरफान खान को दुनिया से अलविदा किए हो गया एक साल.. पत्नी सुतापा ने तब से नहीं देखी घड़ी 

जनरल एमएम नरवने ने पीएम को अवगत कराया कि सेना जहां भी संभव हो नागरिकों के लिए अपने अस्पताल खोल रही है। उन्होंने यह भी कहा कि नागरिक अपने नजदीकी सेना अस्पतालों का रुख कर सकते हैं। जनरल एमएम नरवने ने पीएम को सूचित किया कि सेना आयातित ऑक्सीजन टैंकरों और वाहनों के लिए जनशक्ति के साथ मदद कर रही है जहां उन्हें प्रबंधित करने के लिए विशेष कौशल की आवश्यकता होती है।

इससे पहले पीएम मोदी ने वायुसेना प्रमुख और सीडीएस बिपिन रावत के साथ मीटिंग की थी।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।