26/11 के गुनहगारों को हिन्दुस्तान कभी नहीं भूलेगा: भीलवाड़ा में बोले मोदी

26/11 के गुनहगारों को हिन्दुस्तान कभी नहीं भूलेगा: भीलवाड़ा में बोले मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भीलवाड़ा में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि 10 साल पहले आतंकवाद की इतनी बड़ी घटना घटी, सारी दुनिया हिल गई थी और कांग्रेस उसमें से चुनाव जीतने का खेल खेल रही थी।

भीलवाड़ा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राजस्थान के भीलवाड़ा में विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए 26/11 आतंकी हमले शहीद सपूतों को याद किया और कहा कि आज 26 नवंबर है, जब दिल्ली में मैडम का राज चलता था, रिमोट कंट्रोल से चलता था, जब महाराष्ट्र में कांग्रेस की सरकार थी...तब 26/11 को मुंबई में आतंकवादियों ने हमला करके हमारे देश के लोगों को, जवानों को गोलियों से भून दिया था। आज उस आतंकवाद की घटना को 10 साल हो गए।

इसी के साथ कहा कि 10 साल पहले आतंकवाद की इतनी बड़ी घटना घटी, सारी दुनिया हिल गई थी और कांग्रेस उसमें से चुनाव जीतने का खेल खेल रही थी। वही कांग्रेस उस समय देश भक्ति के पाठ पढ़ाती थी, बाद में वही कांग्रेस सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठाती रही। उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान कभी भी 26/11 को भूलेगा नहीं और 26/11 के गुनहगारों को भी। हम मौके की तलाश में हैं। कानून अपना काम करेगा। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण की बड़ी बातें:

- कांग्रेस पर तीखे हमले करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि कांग्रेस ने सवाल उठाया की सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो दिखाओ। क्या देश का सेना का जवान जब मौत को मुट्ठी में लेकर निकलता है तो हाथ में कैमरा लेकर जायेगा क्या?

- आतंकवादी गतिविधियों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि वो दिन याद कीजिए जब आए दिन हिन्दुस्तान के अलग-अलग कोने में कभी बेंगलुरु में, कभी हैदराबाद में, कभी अजमेर में, कभी दिल्ली में, कभी जम्मू में आए दिन बम धमाके होते थे। आज हमने आतंकवाद के खिलाफ ऐसी लड़ाई लड़ी है कि आज आतंवादियों को कश्मीर की धरती से बाहर निकलना भी मुश्किल पड़ रहा है, मौत सीधे दिखाई पड़ रही है।

यहां देखिए पीएम मोदी का पूरा संबोधन: 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।