PM मोदी बोले, विश्व को फार्मा क्षेत्र में भारत की उत्पादक क्षमता का लाभ मिलता रहेगा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2020   08:59
PM मोदी बोले, विश्व को फार्मा क्षेत्र में भारत की उत्पादक क्षमता का लाभ मिलता रहेगा

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘महामारी से मुकाबले के लिए भारत और कनाडा के बीच चिकित्सा अनुसंधान और आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन के जरिए सहयोग समेत तालमेल और भागीदारी महत्वपूर्ण है।’’ बाद में जारी किए गए एक वक्तव्य में प्रधानमंत्री मोदी ने यह आश्वासन दिया कि फार्मास्यूटिकल सेक्टर में भारत की उत्पादक क्षमता का लाभ कनाडा समेत विश्व के नागरिकों को मिलता रहेगा।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस महामारी से मुकाबला कर रहे विश्व के नागरिकों को फार्मास्यूटिकल सेक्टर में भारत की उत्पादक क्षमता का लाभ मिलता रहेगा। उन्होंने कहा कि महामारी से निजात पाने के लिए भारत और कनाडा के बीच सहयोग महत्वपूर्ण है। मोदी ने एक ट्वीट में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रुडो से बातचीत की। उन्होंने कहा, ‘‘इस मुश्किल समय में कनाडा में भारतीय नागरिकों का ध्यान रखने के लिए आपका धन्यवाद।’’

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘‘महामारी से मुकाबले के लिए भारत और कनाडा के बीच चिकित्सा अनुसंधान और आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन के जरिए सहयोग समेत तालमेल और भागीदारी महत्वपूर्ण है।’’ बाद में जारी किए गए एक वक्तव्य में प्रधानमंत्री मोदी ने यह आश्वासन दिया कि फार्मास्यूटिकल सेक्टर में भारत की उत्पादक क्षमता का लाभ कनाडा समेत विश्व के नागरिकों को मिलता रहेगा। उन्होंने कहा कि भारत इस दिशा में भरसक प्रयास कर रहा है। दोनों नेता इस पर सहमत हुए कि कोविड-19 महामारी से मुकाबला कर रहे वैश्विक प्रयासों में भारत और कनाडा के बीच अनुसंधान और तकनीक के क्षेत्र में साझेदारी की सार्थक भूमिका सामने आएगी। यह भूमिका कोविड-19 का टीका विकसित करने की दिशा में महत्वपूर्ण सिद्ध होगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।