पीएम मोदी ने शुरू किया यूनिक हेल्थ कार्ड, ऐसे करेगा काम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 30, 2021   02:27
पीएम मोदी ने शुरू किया यूनिक हेल्थ कार्ड, ऐसे करेगा काम

सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता को स्वास्थ्य अधिकार देने के लिए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की शुरुआत की है ।इस मिशन के तहत देश के नागरिकों का एक डिजिटल हेल्थ कार्ड बनाया जाएगा।

सोमवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश की जनता को स्वास्थ्य अधिकार देने के लिए आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन की शुरुआत की है ।इस मिशन के तहत देश के नागरिकों का एक डिजिटल हेल्थ कार्ड बनाया जाएगा। इस मिशन का दावा है कि यह गरीब और मध्यमवर्गीय परिवारों को बड़ी राहत देगा।

इसे भी पढ़ें: Dubai Expo 2020 में भारतीय पवेलियन का उद्घाटन, PM मोदी बोले- आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए किए कई सुधार

बात करें डिजिटल हेल्थ कार्ड की तो यह एक ऐसा कार्ड होगा जिसमें कार्ड धारक के बीमारियों के इतिहास और पर्ची के बारे में पूरी जानकारी डिजिटल रूप से उपलब्ध होगी। जिस तरह से हमारे आधार कार्ड में हमारी पहचान से जुड़ी संपूर्ण जानकारी होती है ,उसी प्रकार डिजिटल हेल्थ कार्ड में भी हमारे स्वास्थ्य संबंधी पूर्ण जानकारी  रहेंगी।

हेल्थ कार्ड की सुविधा के साथ ही हस्पताल में पर्ची बनवाने से लेकर रिपोर्ट जांच आदि को लेकर हमेशा घूमने की आवश्यकता नहीं होगी। सभी पर्ची डिजिटल रूप से एक जगह सुरक्षित रहेंगी, जिससे डिजिटल हेल्थ कार्ड के एक विशेष नंबर के जरिए देखा जा सकेगा ।

इसे भी पढ़ें: कन्हैया को लेकर महागठबंधन में तकरार, राजद ने कहा- वह एक और सिद्धू की तरह हैं जो कांग्रेस को बर्बाद कर देंगे

इस कार्ड से यह फायदा होगा कि एक क्लिक पर सभी बीमारियों और इलाज का इतिहास मिल जाएगा। जिस तरीके से हम आधार कार्ड या पैन कार्ड अपने पास रखते हैं, ठीक उसी तरीके से हेल्थ कार्ड को भी रख सकेंगे। इस डिजिटल हेल्थ कार्ड में एक क्यू आर कोड भी रहेगा।

डिजिटल हेल्थ कार्ड में 14 अंकों की एक यूनिक आईडी होगी, जिससे व्यक्ति विशेष की बीमारी ,इलाज और मेडिकल टेस्ट से जुड़ी सभी जानकारियां उपलब्ध रहेंगी। इस यूनिक नंबर से मरीज की मेडिकल हिस्ट्री का पता चल सकेगा। इस डिजिटल हेल्थ कार्ड में रजिस्ट्रेशन के माध्यम से मरीज की मेडिकल हिस्ट्री रखने के लिए अस्पताल और डॉक्टर इसका एक सेंट्रल सर्वर से जोड़ा जाएगा ।

इसके जरिए व्यक्ति अपने डेटा को एन डी एच हेल्थ रिकॉर्ड्स ऐप पर अपलोड कर पाएंगे। इस ऐप में सभी क्लीनिक वह अस्पताल की लिस्ट होगी। इस कार्ड का सबसे बड़ा फायदा यह होगा कि है मरीज की कोई पर्चियां, टेस्ट रिपोर्ट खो गई हो तो उसको परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि इस यूनिक आईडी नंबर से डॉक्टर मरीज की मेडिकल हिस्ट्री व दिक्कतों के बारे में जान सकेंगे।

डिजिटल हेल्थ कार्ड को  बनवाने से संबंधी प्रश्नों पर बातचीत की जाए ,तो यह  मोबाइल नंबर या आधार कार्ड की मदद से ऑनलाइन बनवाया जा सकता है। इसको आप खुद भी बना सकते हैं ,या किसी साइबर कैफे या सर्विस सेंटर में जाकर बनवाया जा सकता है ।इसके लिए मोबाइल के ब्राउजर में ndhm.gov.in टाइप करके'OK' करना होगा।

अब इस साइट पर हेल्थआईडी नाम से एक आइकन होगा जिस पर क्लिक करने के बाद कार्ड बनाने के लिए मोबाइल नंबर या आधार नंबर के विकल्प का चयन करना होगा। इसके चुनाव के बाद आपको एक ओटीपी मिलेगा जिसको भरकर वेरीफाई करने के बाद आपके सामने एक फोरम खुल जाएगा ।

जिसमें आपको फोटो ,एड्रेस ,डेट ऑफ बर्थ आदि कुछ जानकारियां देनी होंगी ।सभी जानकारियां भरने के बाद आपका डिजिटल हेल्थ कार्ड बनकर तैयार हो जाएगा। जिससे आप वेबसाइट से डाउनलोड कर सकें सकेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।