प्रियंका गांधी का केंद्र सरकार पर बड़ा आरोप, कहा- 'दुबई में ISI से बात कर सकती है सरकार'

प्रियंका गांधी का केंद्र सरकार पर बड़ा आरोप, कहा- 'दुबई में ISI से बात कर सकती है सरकार'

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और कहा कि ऑक्सीजन के लिए भारत की उत्पादन क्षमता दुनिया में सबसे बड़ी है और पूछा कि कमी क्यों है?

COVID-19 मामलों में वृद्धि के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में ऑक्सीजन की मांग में तीव्र वृद्धि हुई है। मंगलवार को, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वीकार किया कि देश में ऑक्सीजन संकट था और कहा कि इसका उत्पादन बढ़ाने के लिए काम कई स्तरों पर हो रहा है।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र : ठाणे में कोविड-19 के 4,599 नए मामले, 49 लोगों की मौत

कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी ने बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा और समाचार एजेंसी एएनआइ से बातचीत करते हुए कहा कि ऑक्सीजन के लिए भारत की उत्पादन क्षमता दुनिया में सबसे बड़ी है और पूछा कि कमी क्यों है? उन्होंने केंद्र सरकार पर बड़ा आरोप लगाते हुए आगे कहा कि, 'ये सरकार दुबई में ISI से बात कर सकती है, विपक्ष के नेताओं से बात नहीं कर सकती? मैं नहीं मानती कि आज विपक्ष का एक भी नेता ऐसा है जो इन्हें पाॅजिटिव और रचनात्मक तरीके से सुझाव नहीं दे रहा है'।

“आपके पास पहली और दूसरी लहर के बीच 8-9 महीने थे। आपके अपने सेरोसुरिव्स ने संकेत दिया कि एक दूसरी लहर आसन है लेकिन आपने इसे नजरअंदाज कर दिया।

'ऑक्सीजन उपलब्ध है लेकिन यह उस स्थान पर नहीं पहुंच रहा है जहां इसे होना चाहिए'

 

उन्होंने आगे कहा कि आज, भारत में केवल 2000 ट्रक ही ऑक्सीजन का परिवहन कर सकते हैं और कहा कि यह दुखद है कि ऑक्सीजन उपलब्ध है, लेकिन यह वहां तक नहीं पहुंचना चाहिए जहां यह होना चाहिए।

प्रियंका गांधी ने पिछले 6 महीनों में 1.1 मिलियन रेमेडिसविर इंजेक्शन के निर्यात के लिए केंद्र को भी फटकार लगाई और कहा कि केंद्र द्वारा इस तरह के फैसलों के कारण भारत को कमी का सामना करना पड़ रहा है। प्रियंका गांधी ने आगे कहा कि, “वैक्सीन की कमी खराब प्लानिंग के कारण है,  बिना किसी रणनीति के ऑक्सीजन की कमी है। यह सरकार की विफलता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।