खुद को बताता था शिक्षा मंत्री का OSD, ट्रांसफर का लालच देकर लोगों से ऐंठता था पैसे, पुलिस के हत्थे चढ़ा

police arrested a thug in mp
प्रतिरूप फोटो
नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों को खूब ठगा जा रहा है। अब ऐसा ही ताजा मामला मध्य प्रदेश से सामने आया है। जहां पुलिस ने एक ऐसे शातिर ठग को गिरफ्तार किया है जो खुद को राज्य सरकार के मंत्री का ओएसडी बताता था और लोगों को ट्रांसफर करवाने के झांसा देकर उनसे पैसे ऐंठता था।

देश में ऑनलाइन ठगी के मामले बढ़ते जा रहे हैं। नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों को खूब ठगा जा रहा है। अब ऐसा ही ताजा मामला मध्य प्रदेश से सामने आया है। जहां पुलिस ने एक ऐसे शातिर ठग को गिरफ्तार किया है जो खुद को राज्य सरकार के मंत्री का ओएसडी बताता था और लोगों को ट्रांसफर करवाने का झांसा देकर, उनसे पैसे ऐंठता था। राज्य के उच्च शिक्षा मंत्री के ओएसडी विजय बुदवानी ने खुद इसकी लिखित शिकायत साइबर सेल को दी थी। जिसमें उन्होंने कहा था कि कोई उनके नाम का इस्तेमाल कर प्रोफेसरों को फोन ट्रांसफर करवाने का झांसा देकर पैसे ऐंठ रहा है। इस बात का खुलासा तब हुआ जब ओएसडी के पास एक महिला प्रोफेसर का फोन आया और उन्होंने ट्रांसफर की बात कही। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश के मेरठ में दिनदहाड़े बंदूक की नोक पर तेल व्यापारी से 15 लाख की लूट 

महिला प्रोफेसर ने ट्रांसफर किए 75 हजार

महिला प्रोफेसर की ट्रांसफर वाली बात को लेकर किसी भी तरह की जानकारी से ओएसडी ने इंकार कर दिया। इसके बाद महिला प्रोफेसर ने बताया कि शैलेंद्र पटेल नाम के एक शख्स को उन्होंने 75 हजार रुपए दिए हैं। इसके बाद ओएसडी ने उन्हें अपने ऑफिस बुलाया। महिला प्रोफेसर ने बताया कि एक शख्स लैंडलाइन से फोन से कर खुद को उच्च शिक्षा मंत्री का ओएसडी बताया और ट्रांसफर का लालच देकर 75 हजार रुपए अपने खाते में ट्रांसफर करवा लिए। महिला प्रोफेसर ने उसके खाते की भी जानकारी दी जिसमें उन्होंने पैसे ट्रांसफर किए थे। इसके बाद विजय बुदवानी ने खुद महिला से सारी जानकारी लेकर साइबर सेल में शिकायत की। 

इसे भी पढ़ें: हरियाणा के झज्जर में घरेलू कलह के चलते पति ने की पत्नी की हत्या, जांच में जुटी पुलिस

आरोपी ने पूछताछ में कबूला जुर्म

विजय बुदवानी की शिकायत पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने शैलेंद्र पटेल को भोपाल से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में आरोपी ने अपना जुर्म भी कबूल कर लिया है। पूछताछ के दौरान उसने बताया कि लोगों को लगे कि वह स्टाफ का सदस्य है इसलिए पहले लैंडलाइन से बात करता था और जब रकम अकाउंट में ट्रांसफर करवानी होती थी तो मोबाइल फोन का इस्तेमाल करता था। इसके बाद पुलिस यह पता लगा रही है कि उसने ऐसे कितने और लोगों को ठगा है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़