मध्य प्रदेश में कोरोना को लेकर राजनीति तेज, भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने

मध्य प्रदेश में कोरोना को लेकर राजनीति तेज, भाजपा और कांग्रेस आमने-सामने

कमलनाथ ने आरोप लगाया कि मैं शिवराज सिंह चौहान से कहता हूं कि आप हेलीकॉप्टर लेकर हर जिले में जाकर लोगों से बात करें। केंद्र राज्य को दोष दे रहे हैं और राज्य केंद्र को। प्रधानमंत्री सोच रहे हैं कि राज्य को दोष दे दिया जाएं तो वे इससे छूट जाएंगे।

मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच राजनीति भी चरम पर है। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता कमलनाथ ने शिवराज सरकार पर जमकर आरोप लगाए हैं। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक कमलनाथ ने कहा कि एक ऐसा अस्पताल पूरे प्रदेश में नहीं है जहां ऑक्सीजन, बेड और इंजेक्शन उपलब्ध हो और शिवराज सिंह चौहान कह रहे हैं कि सब कुछ है। स्कूल, कॉलेज बंद हो सकते हैं लेकिन राजनीतिक रैलियां बंद नहीं हो सकती है। टेस्टिंग बंद कर दी है। कमलनाथ ने आरोप लगाया कि मैं शिवराज सिंह चौहान से कहता हूं कि आप हेलीकॉप्टर लेकर हर जिले में जाकर लोगों से बात करें। केंद्र राज्य को दोष दे रहे हैं और राज्य केंद्र को। प्रधानमंत्री सोच रहे हैं कि राज्य को दोष दे दिया जाएं तो वे इससे छूट जाएंगे।

कमलनाथ के आरोप का जवाब देते हुए मध्य प्रदेश के मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि 1 मई से 18 साल से अधिक उम्र के लोगों के वैक्सीनेशन के लिए हम तैयार हैं। अस्पतालों में भीड़ है इसलिए आंगनवाड़ी, पंचायत भवन और स्कूल के भवन में वैक्सीनेशन किया जाएगा। इसकी ट्रेनिंग कल हुई। हमने सीरम इंस्टीट्यूट को 45 लाख डोज़ का आर्डर दिया है। विश्वास सारंग ने आगे कहा कि कमलनाथ जी अगर कोरोना में भी राजनीति कर रहे हैं तो इससे शर्मनाक कुछ नहीं हो सकता। कांग्रेस नेताओं की एक आदत हो गई है कि वे जहां भाजपा की सरकार है वहां मुख्यमंत्री को दोष देते हैं और जहां कांग्रेस की सरकार है वहां प्रधानमंत्री को दोष देते हैं। ये दोहरापन कैसे चलेगा?





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।