न्यायाधीशों के लिए राजनीति प्रासंगिक नहीं, भारत की विविधता न्यायपालिका में दिखनी चाहिए: रमण

NV Ramana
न्यायमूर्ति रमण अमेरिका के उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति स्टीफन ब्रेयर के साथ द्वितीय तुलनात्मक संवैधानिक कानून परिचर्चा को संबोधित कर रहे थे। प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि वह न्यायमूर्ति ब्रेयर के इस विचार से सहमत हैं कि ‘‘न्यायाधीश का काम राजनीतिक नहीं है।’’

नयी दिल्ली| प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति एन. वी. रमण ने सोमवार को कहा कि न्यायाधीश बनने के बाद राजनीति प्रासंगिक नहीं होती और न्यायाधीशों का मार्गदर्शन संविधान ही करता है। उन्होंने कहा कि भारत की विशाल सामाजिक और भौगोलिक विविधता न्यायपालिका के सभी स्तरों पर प्रतिबिंबित होनी चाहिए क्योंकि इससे दक्षता में सुधार होगा।

न्यायमूर्ति रमण अमेरिका के उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति स्टीफन ब्रेयर के साथ द्वितीय तुलनात्मक संवैधानिक कानून परिचर्चा को संबोधित कर रहे थे। प्रधान न्यायाधीश ने कहा कि वह न्यायमूर्ति ब्रेयर के इस विचार से सहमत हैं कि ‘‘न्यायाधीश का काम राजनीतिक नहीं है।’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं वास्तव में न्यायमूर्ति ब्रेयर के इस कथन की सराहना करता हूं- न्यायाधीश का काम राजनीतिक नहीं है। यह वास्तव में एक अद्भुत कथन है। एक बार जब हमने संविधान की शपथ ले ली, एक बार जब आप न्यायाधीश के रूप में काम करना शुरू कर देते हैं, तो मुझे लगता है कि राजनीति अब प्रासंगिक नहीं है। यह संविधान है जो हमारा मार्गदर्शन करता है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़