SCO से हिंद संदेश-दूरंदेश: रूस को शांति का मंत्र, मेजबानी पर चीन का साथ, पाक की इंटरनेशनल बेइज्जती के बीच समरकंद में दिखा भारत का दम

modi
prabhasakshi
अभिनय आकाश । Sep 16, 2022 9:44PM
जब भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचे तो उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शावकत मिर्जियोयेव ने गर्मजोशी से स्वागत किया। फिर सम्मेलन की बैठक के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने शंघाई सहयोग संगठन के सदस्य देशों को पांच बड़े मंत्र दिए।

भारत एक ऐसा मुल्क है जो क्वाड से लेकर ब्रिक्स, जी 20 से लेकर हर बड़े वैश्विक संगठन में शामिल है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उज्बेकिस्तान की राजधानी समरकंद में एससीओ शिखर सम्मेलन के मंच से दुनिया में भारत के बढ़ते कद का अहसास कराया है। दुनिया के महाबली देशों के मंच से पीएम मोदी ने बताया कि भारत किस प्रकार हर क्षेत्र में मजबूती से अपने पांव जमा रहा है। समरकंद के आसमान में सतरंगी पटाखे रौशन हो रहे थे। जब हिन्दुस्तान के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समरकंद पहुंचे थे। प्रधानमंत्री मोदी का स्वागत करने खुद उज्बेकिस्तान के प्रधानमंत्री अब्दुल्ला अरिपोव एयरपोर्ट पहुंचे थे। इसके साथ ही भारतीय प्रतिनिधिमंडल के स्वागत में बॉलीवुड संगीत भी बजाया जा रहा था। उज्जबेकिस्तान में भारत का ये जोरदार स्वागत दूसरे दिन भी जारी रहा। जब भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचे तो उज्बेकिस्तान के राष्ट्रपति शावकत मिर्जियोयेव ने गर्मजोशी से स्वागत किया। फिर सम्मेलन की बैठक के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने शंघाई सहयोग संगठन के सदस्य देशों को पांच बड़े मंत्र दिए।

इसे भी पढ़ें: मेरे प्यारे दोस्त, हम कभी भी एडवांस में हैप्पी बर्थडे नहीं कहते, लेकिन... जब PM मोदी से बोले पुतिन

पीएम मोदी ने दिए 5 मंत्र 

1.) भारत को मैन्यूफैक्चरिंग हब बनाना है। 

2.) 70 हजार स्टार्टअप वाला भारत इनोवेशन में सभी की सहायता करेगा। 

3.) एससीओ के देशों के बीच सप्लाई चेन, ट्रांजिट बढ़ाना होगा। 

4.) मोटे अनाज उपजाकर खाद्य संकट से निपटना होगा। 

5.) एससीओ के सदस्य देश भी पारंपरिक इलाज शुरू करें।  

दुनिया की चालीस प्रतिशत आबादी का प्रतिनिधित्व करता है। उस मंच पर भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गर्व से कहा कि आज भारत की तेजी से बढ़ती इकोनॉमी के मुकाबले कोई नहीं। भारत शंघाई सहयोग संगठन में शामिल होने वाला एकलौता ऐसा देश है, जो मौजूदा हालात में समरकंद का सिकंदर साबित हो रहा है। 

पाकिस्तानी पीएम टोटली इग्नोर्ड

एससीओ समिट के दौरान और बाद में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ की न तो कोई बात हुई और न ही कोई मुलाकात हुई। यानी प्रधानमंत्री मोदी ने शाहबाज शरीफ को पूरी तरह से नजरअंदाज किया। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहबाज शरीफ ने आतंकवाद को समाप्त करने के लिए पूरी दुनिया से एकजुट होने की अपील की। इसके साथ ही एक अंतरराष्ट्रीय मजाक करते हुए पाकिस्तान ने कहा कि वो खुद ही आतंकवाद का शिकार है। व्लादिमीर पुतिन और शहबाज शरीफ एक साथ बैठे थे। इस दौरान शहबाज शरीफ अपने हेडफोन के साथ संघर्ष करते देखे गए। इसके चलते वह सोशल मीडिया यूजर्स के बीच हंसी का पात्र बन गए।

इसे भी पढ़ें: 22 साल की दोस्ती पर चर्चा, डेमोक्रेसी, डिप्लोमेसी और डायलॉग, क्या हुआ जब समरंकद में मोदी-पुतिन के बीच हुआ मेगा संवाद

मोदी और पुतिन की मुलाकात, दिल खोल कर बात

एससीओ समिट से इतर प्रधानमंत्री मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच की बैठक से सभी का ध्यान अपनी ओर आकर्षित किया। ये मुलाकात तय वक्त से ज्यादा देर तक चली और बड़ी बात ये है कि इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने पुतिन से ये कहा कि ये युग युद्ध का नहीं हैं। ये अपने आप में बहुत बड़ी बात है क्योंकि पीएम मोदी ने ठीक सामने बैठकर ये बातें पुतिन को कहीं। धानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से कहा कि आज का युग युद्ध का नहीं है। हमने फोन पर आपके कई बार इस बारे में बात भी की है कि लोकतंत्र कूटनीति और संवाद दुनिया को एक स्पर्श करती हैं। इस साल फरवरी में रूस-यूक्रेन संघर्ष शुरू होने के बाद से दोनों नेताओं के बीच यह पहली मुलाकात है। हालांकि भारत ने अभी तक यूक्रेन पर आक्रमण के लिए रूस की आलोचना नहीं की है, लेकिन वह बातचीत के माध्यम से संकट के समाधान की वकालत करता रहा है। वार्षिक शिखर सम्मेलन से इतर बातचीत करने वाले दोनों नेताओं ने द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा की है।

जिनपिंग से दूरी, फिर भी मेजबानी पर दी बधाई

प्रधानमंत्री मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग समिट में एक ही जगह, एक ही हॉल में तो मौजूद थे, लेकिन दोनों के बीच कोई भी बातचीत नहीं हुई। लेकिन शिखर सम्मेलन में जिनपिंग ने भारत की मेजबानी का समर्थन किया है। उजबेकिस्तान में चल रहे 22वें शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने भारत को अगले साल एससीओ की मेजबानी करने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि हम अगले साल भारत की अध्यक्षता का समर्थन करेंगे। उज्बेकिस्तान ने यहां आठ सदस्यीय शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की अध्यक्षता भारत को सौंपी।  

एर्दोगन और रईसी से मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नेसमरकंद में शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) शिखर सम्मेलन से इतर ईरानी राष्ट्रपति इब्राहिम रायसी के साथ द्विपक्षीय बैठक की। इससे पहले पीएम मोदी ने आज तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तईप एर्दोगन के साथ द्विपक्षीय बैठक की। 

अन्य न्यूज़