किताब का विमोचन कर बोले प्रणब मुखर्जी, स्वामी जो महसूस करते हैं वही बोलते हैं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 26, 2019   08:36
किताब का विमोचन कर बोले प्रणब मुखर्जी, स्वामी जो महसूस करते हैं वही बोलते हैं

पुस्तक ‘रीसेट: रीगेनिंग इंडियाज इकोनॉमिक लीगेसी’ का विमोचन करते हुए पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी के साथ अपने लंबे जुड़ाव का जिक्र किया।

नयी दिल्ली। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने बुधवार को भाजपा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी द्वारा लिखी एक किताब का विमोचन किया। पुस्तक में देश के आर्थिक विकास के अतीत की चर्चा की गयी ह और भविष्य में आर्थिक विकास के लिए समाधान बताए गये हैं। पुस्तक ‘रीसेट: रीगेनिंग इंडियाज इकोनॉमिक लीगेसी’ का विमोचन करते हुए मुखर्जी ने स्वामी के साथ अपने लंबे जुड़ाव का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि स्वामी जो महसूस करते हैं और जो विश्वास करते हैं वही बोलते हैं। उन्होंने कहा कि स्वामी अपनी राय सार्वजनिक रूप से जाहिर करने से डरते नहीं हैं। 

इसे भी पढ़ें: सुब्रमण्यम स्वामी का दावा- इसी साल नवंबर बाद शुरू होगा राम मंदिर का निर्माण

पूर्व राष्ट्रपति ने 1990-91 में अल्प समय तक चली चंद्रशेखर की सरकार में वाणिज्य मंत्री रहे स्वामी की व्यापार को उदार बनाने की दिशा में की गई पहल को भी याद किया। मुखर्जी ने कहा कि वह किताब को लेकर अपनी कोई राय नहीं देंगे क्योंकि यह पाठकों को तय करना है लेकिन उन्होंने “स्पष्ट” लेखन के लिये इसकी सराहना की। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...