राम मंदिर बनता देख खुश हुए प्रवीण तोगड़िया कहा- काशी और मथुरा पर भी बनना चाहिए कानून

राम मंदिर बनता देख खुश हुए प्रवीण तोगड़िया कहा- काशी और मथुरा पर भी बनना चाहिए कानून

अपने संबोधन में प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि राम मंदिर आंदोलन के समय मैंने तीन बातें रखी। हर हिंदू को खाना, सस्तीगुणवत्ता आयुक्त उच्च शिक्षा और युवा को रोजगार साथ-साथ किसान को फसल का दाम भी मिले।

प्रवीण तोगड़िया इन दिनों उत्तर प्रदेश के दौरे पर हैं। इसी कड़ी में वह जौनपुर पहुंचे जहां उन्होंने मां शारदा शक्तिपीठ में मत्था टेक कर आशीर्वाद लिया। इसके साथ ही उन्होंने मीडिया से भी बातचीत की। अंतरराष्ट्रीय हिंदू परिषद के अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने राम मंदिर बनता देख खुशी जताई और कहा कि यह मेरे लिए आनंद की बात है। राम मंदिर आंदोलन में सक्रिय भूमिका निभाने वाले प्रवीण तोगड़िया ने यह भी कहा कि भाजपा सत्ता में है, ऐसे में उसे मथुरा और काशी के लिए भी कानून लाना चाहिए। उन्होंने कहा कि देश और मंदिरों को तोड़ने वाले जिहादियों को भी मिट्टी में मिला दिया जाना चाहिए। 

अपने संबोधन में प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि राम मंदिर आंदोलन के समय मैंने तीन बातें रखी। हर हिंदू को खाना, सस्तीगुणवत्ता आयुक्त उच्च शिक्षा और युवा को रोजगार साथ-साथ किसान को फसल का दाम भी मिले। उन्होंने कहा कि जब ट्रिपल तलाक पर कानून आ सकता है तो काशी मथुरा के लिए भी आ सकता है। अगर यह कानून अभी आ जाता है उत्तर प्रदेश चुनाव में लाभ होगा। सरकार को चाहिए कि संसद में मथुरा और काशी से जुड़े कानून बनाए और काशी विश्वनाथ का सम्मान करें। उन्होंने कहा कि जिस तरीके से राम मंदिर के लिए आंदोलन चलाया गया ठीक उसी तरह से अब भारत को गरीबी मुक्त बनाने के लिए अभियान चलाया जा रहा है। 

कृषि कानूनों को लेकर भी प्रवीण तोगड़िया ने अपना पक्ष रखा। प्रवीण तोगड़िया ने कहा कि अच्छा हुआ कि मोदी सरकार ने समय रहते कृषि कारणों को वापस ले लिया। किसानों को फसलों का समर्थन मूल्य मिलना चाहिए और इसके लिए कानून आना चाहिए। फसल हमारा और दाम तुम्हारा ऐसा नहीं चलेगा। फसल अगर हमारा है तो दाम भी हमारा ही चलेगा। उन्होंने कहा कि किसान को अपनी फसल का दाम लगाने का पूरा हक मिलना चाहिए। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...