गोवा में शिवसेना और राकांपा के बीच चुनाव पूर्व गठबंधन, कांग्रेस ने प्रस्ताव पर नहीं दिया जवाब

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2022   15:39
गोवा में शिवसेना और राकांपा के बीच चुनाव पूर्व गठबंधन, कांग्रेस ने प्रस्ताव पर नहीं दिया जवाब

गोवा में अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने चुनाव पूर्व गठबंधन करने की घोषणा की है। बुधवार को दोनों दलों ने यह निर्णय लिया और कहा कि कांग्रेस ने गठबंधन के प्रस्ताव पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।

पणजी। गोवा में अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने चुनाव पूर्व गठबंधन करने की घोषणा की है। बुधवार को दोनों दलों ने यह निर्णय लिया और कहा कि कांग्रेस ने गठबंधन के प्रस्ताव पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी। शिवसेना सांसद संजय राउत ने कहा कि गोवा में, शिवसेना और राकांपा के शामिल हुए बिना अगली सरकार नहीं बन सकती। वरिष्ठ नेता प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि शिवसेना और राकांपा प्रत्येक, कम से कम 10-12 सीटों पर अपने उम्मीदवार पेश करेगी। पटेल ने राउत के साथ एक संयुक्त प्रेस वार्ता में कहा, “गोवा में चुनाव पूर्व गठबंधन के लिए राकांपा ने कांग्रेस से बात करने की कोशिश की थी।

इसे भी पढ़ें: कर्ज नहीं चुकाने वाले किसानों की जमीन नीलाम नहीं कर पाएंगे बैंक, अशोक गहलोत ने दिए निर्देश

हमने उनसे कहा कि सरकार बनाने के लिए साथ मिलकर काम करते हैं।” पटेल ने कहा कि संजय राउत ने भी कांग्रेस को मुख्य दल के रूप में रखते हुए संयुक्त रूप से चुनाव लड़ने के लिए कांग्रेस को प्रस्ताव दिया था। पटेल ने कहा, “लेकिन हमारे इस प्रस्ताव पर प्रतिक्रिया नहीं दी गई। हमें लगा कि कांग्रेस हमें वह सम्मान नहीं दे रही जिसके हम हकदार हैं।”

इसे भी पढ़ें: नई आबकारी नीति से सिर्फ उन्हें तकलीफ है जो शराब माफियाओं को संरक्षण देते है : नरोत्तम मिश्रा

उन्होंने कहा कि शिवसेना और राकांपा प्रत्येक, कम से कम 10-12 सीटों पर प्रत्याशी उतारेगी। गोवा में कुल 40 सीटें हैं। राउत ने कहा कि कांग्रेस को लगता है कि वह अकेले सरकार बना लेगी। उन्होंने कहा कि इसके लिए कांग्रेस को शुभकामनायें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।