परीक्षा पर चर्चा के बजाय प्रधानमंत्री ने की खिलौनों पर चर्चा, राहुल गांधी ने 'मन की बात' पर कसा तंज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 30, 2020   18:58
परीक्षा पर चर्चा के बजाय प्रधानमंत्री ने की खिलौनों पर चर्चा, राहुल गांधी ने 'मन की बात' पर कसा तंज

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को कहा कि छात्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में नीट और जेईई की परीक्षाओं के मुद्दे का समाधान चाहते थे, लेकिन उन्होंने खिलौने पर चर्चा की।

नयी दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को कहा कि छात्र प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मासिक रेडियो कार्यक्रम ‘मन की बात’ में नीट और जेईई की परीक्षाओं के मुद्दे का समाधान चाहते थे, लेकिन उन्होंने खिलौने पर चर्चा की। आकाशवाणी पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को अपने ‘मन की बात’ संबोधन में कहा कि देश के पास खिलौना उद्योग का केंद्र बनने की प्रतिभा और क्षमता है। साथ ही, उन्होंने स्टार्ट-अप एवं नए उद्यमियों से खिलौना उद्योग से बड़े पैमाने पर जुड़ने की अपील की। इसके बाद, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष की यह टिप्पणी आई।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन पर राहुल गांधी ने भारत सरकार को घेरा, कहा- लापरवाही चिंताजनक

‘‘मन_की_नहीं_छात्रों_की_बात’’ हैशटैग के साथ राहुल ने ट्वीट किया, ‘‘जेईई-नीट के अभ्यर्थी प्रधानमंत्री से परीक्षा पर चर्चा की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन प्रधानमंत्री ने खिलौने पर चर्चा की।’’ राहुल और उनकी पार्टी (कांग्रेस) ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजरनीट और जेईई की परीक्षाएं टालने की बड़ी संख्या में छात्रों की मांग का समर्थन किया है। ये परीक्षाएं एक सितंबर से शुरू हो रही हैं। छह राज्यों की सरकारों ने अपने मंत्रियों के जरिये उच्चतम न्यायालय का रुख कर एक पुनर्विचार याचिका दायर की है और इन परीक्षाओं को टालने की मांग की है।

इसे भी पढ़ें: सिद्धारमैया ने सोनिया को लिखी चिट्ठी, स्वास्थ्य के चलते पद छोड़ना हो तो राहुल गांधी को बनाएं अध्यक्ष

प्रधानमंत्री ने स्टार्ट-अप एवं नए उद्यमियों से खिलौना उद्योग से बड़े पैमाने पर जुड़ने के साथ-साथ भारत में और भारत के ‘‘कंप्यूटर गेम्स’’ बनाने का आह्वान करते हुए कहा कि ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान में इन क्षेत्रों को बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभानी है। उन्होंने कई अन्य मुद्दों पर भी अपने रेडियो कार्यक्रम में चर्चा की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।