जम्मू-कश्मीर पर नेहरु की नाइंसाफी को प्रधानमंत्री मोदी ने इंसाफ में बदला है: शाहनवाज

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 26, 2019   20:34
जम्मू-कश्मीर पर नेहरु की नाइंसाफी को प्रधानमंत्री मोदी ने इंसाफ में बदला है: शाहनवाज

मध्यप्रदेश में बाढ़ पीड़ितों को मदद देने के मुद्दे पर शहनवाज हुसैन ने कहा कि केन्द्र सरकार पूरी मदद करेगी। फिलहाल तो प्रदेश में कांग्रेस सत्ता में है और वह जनता की बजाय अपनी चिंता कर रहे हैं।

ग्वालियर। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने कहा कि जम्मू- कश्मीर में अनुच्छेद 370 को लेकर तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु ने जो नाइंसाफी की थी, उसे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इंसाफ में बदला है। भिण्ड में भाजपा के एक कार्यक्रम में शामिल होने जा रहे शाहनवाज हुसैन ने ग्वालियर में संवादाताओं से कहा, ‘‘कश्मीर में अनुच्छेद 370 को लेकर नेहरू ने जो नाइंसाफी की थी, उसे प्रधानमंत्री मोदी ने इंसाफ में बदला है और हमारे नेता अमित शाह ने सरदार पटेल के सपने को पूरा किया है। अब पूरे देश में एक प्रधान, एक विधान और एक निशान है। इस कदम की पूरे देश में सराहना हो रही है।’’ 

उन्होंने कहा कि यहां तक कि कर्ण सिंह, ज्योतिरादित्य सिंधिया औद दीपेन्द्र हुड्डा सहित कई नेताओं ने इसके पक्ष में बयान दिया है। इसके बाद भी कांग्रेस नेताओं के अनुच्छेद 370 पर दिए गए बयान पाकिस्तान जैसे विरोधियों को फायदा पहुंचा रहे हैं।देश की अर्थव्यवस्था के सवाल पर शहनवाज ने कहा कि वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कई उपाय किए हैं। शेयर बाजार आगे बढ़ रहा है। एक तिमाही में जीडीपी की दर कम हुई है, लेकिन अगली तिमाही में यह ठीक हो जाएगी।

इसे भी पढ़ें: NRC का बचाव करते हुए शाहनवाज हुसैन ने कहा, भारत कोई धर्मशाला नहीं है

मध्यप्रदेश में बाढ़ पीड़ितों को मदद देने के मुद्दे पर शहनवाज हुसैन ने कहा कि केन्द्र सरकार पूरी मदद करेगी। फिलहाल तो प्रदेश में कांग्रेस सत्ता में है और वह जनता की बजाय अपनी चिंता कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में जोड़-तोड़ करके कांग्रेस ने सरकार बनाई है और अब प्रदेश के लोग परेशान हो रहे हैं। यह ज्यादा दिन नहीं चलने वाला है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।