प्रयागराज में कथित तौर पर पीटे जाने वाले छात्रों से प्रियंका गांधी ने बात की

Priyanka Gandhi
बयान के मुताबिक प्रियंका गांधी ने कहा , ‘‘ सरकार आपको नौकरी नहीं देती और आप पर दमन भी करती है। अब जब नेता वोट मांगने आएँ तो उनकी जवाबदेही तय करिए। उन्होंने कहा कि भर्ती प्रक्रियाओं को सालों साल लटकने से बचाने का हल है, जॉब कैलेंडर।’’

लखनऊ| कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने प्रयागराज में रेलवे भर्ती परीक्षा में कथित अनियमितताओं के विरोध में प्रदर्शन करने के दौरान पुलिस की कथित पिटाई का शिकार हुए छात्रों से बृहस्पतिवार को बातचीत की। पार्टी की ओर से यहां जारी एक बयान में कहा गया, प्रियंका गांधी वाड्रा ने प्रतियोगी परीक्षा दे रहे छात्रों से बात की है।

बातचीत के दौरान प्रियंका ने छात्रों को आश्वासन दिया कि वह हर मंच से आवाज उठाएंगी। उन्होंने कहा , डरिए मत, ये सुनिश्चित करिए कि चुनाव आपके मुद्दों पर हो, आपके रोजगार के मुद्दे पर हो।

बयान के मुताबिक प्रियंका गांधी ने कहा , ‘‘ सरकार आपको नौकरी नहीं देती और आप पर दमन भी करती है। अब जब नेता वोट मांगने आएँ तो उनकी जवाबदेही तय करिए। उन्होंने कहा कि भर्ती प्रक्रियाओं को सालों साल लटकने से बचाने का हल है, जॉब कैलेंडर।’’ प्रियंका ने छात्रों को प्रयागराज आने का आश्वासन भी दिया।

गौरतलब हैं कि बुधवार को प्रयागराज के प्रयाग स्टेशन के निकट रेलवे ट्रैक पर जाम लगाने और उपद्रव करने के मामले में पुलिस ने दो नामजद अभियुक्तों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार किये गये अभियुक्तों में प्रदीप यादव और मुकेश यादव शामिल हैं जबकि सोशल मीडिया पर कथित तौर पर भड़काऊ टिप्पणी करने वाले राजेश सचान की तलाश जारी है।

मंगलवार को हुई इस घटना के संबंध में पुलिस ने 1,000 अज्ञात उपद्रवियों के खिलाफ 13 गंभीर धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया है। मंगलवार को हुई इस घटना के दौरान अनावश्यक बल प्रयोग करने के आरोप में छह पुलिसकर्मियों को भी तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया था।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कुमार ने कहा था कि ऐसा प्रतीत होता है कि ये उपद्रवी कुछ राजनीतिक दलों से धन लेकर ऐसा कर रहे हैं या फिर इन्हें अशांति पैदा करने के लिए कहा गया है।

उन्होंने कहा कि इस पहलू की जांच के लिए 11 लोगों की टीम बनाई गई है और जल्द ही इसका पर्दाफाश होगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़