शिमला से ही राजनिति की व्यूह रचना रचेंगी प्रियंका गांधी

शिमला से ही राजनिति की व्यूह रचना रचेंगी प्रियंका गांधी
प्रतिरूप फोटो

उत्तर प्रदेश में कुछ माह बाद विधानसभा चुनाव होने हैं लेकिन चुनावों से ठीक पहले जितिन प्रसाद के पार्टी छोडने से कांग्रेस को झटका लगा है। इसी के चलते पियंका गांधी का शिमला दौरा खासा अहम माना जा रहा है।

शिमला। एक ओर उत्तर प्रदेश में राजनैतिक उठापटक हो रही है तो दूसरी ओर राजनैतिक रस्साकस्सी से दूर हिमाचल प्रदेश की शांत वादियों में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा भावी रणानिति तय करने के लिये पहुंच गई हैं। खासकर उत्तर प्रदेश की राजनिति में उनकी खास दिलचस्पी है। वह उत्तर प्रदेश की प्रभारी भी हैं। उत्तर प्रदेश में कुछ माह बाद विधानसभा चुनाव होने हैं लेकिन चुनावों से ठीक पहले जितिन प्रसाद के पार्टी छोडने से कांग्रेस को झटका लगा है। इसी के चलते पियंका गांधी का शिमला दौरा खासा अहम माना जा रहा है।

इसे भी पढ़ें: सचिन पायलट को मनाने की कवायद हुई तेज, सुबह सवेरे प्रियंका गांधी ने किया फोन

प्रदेश की राजधानी शिमला के पास छराबड़ा में उनका अपना बंगला है जिसमें उनके आगमन से एकाएक सरगर्मियां बढ़ गई हैं। जिससे छराबड़ा की ओर राजनिति से लेकर आम आदमी तक नजरें इस बंगले की ओर हैं। यहां प्रियंका गांधी के आने की तैयारियां पहले ही शुरू हो गई थीं। वह सडक मार्ग से चंडीगढ से शिमला पहुंची। यहां कांग्रेस नेता केहर सिंह खाची उनसे मिले। बताया जा रहा है कि प्रियंका गांधी अब शिमला से ही उत्तर प्रदेश व खासकर कांग्रेस की अंदरूनी राजनिति पर नजर रखेंगी। चूंकि प्रियंका यहां कुछ दिन रूकेंगी। बताया जा रहा है कि इन दिनों उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिये प्रियंका गांधी तैयारियों में जुटी हैं। लिहाजा आने वाले कुछ दिन वह यहां रहकर ही भावी रणानिति तय करेंगी। प्रियंका गांधी वाड्रा का हिमाचल प्रदेश से खास लगाव रहा है। यही वजह है कि उन्होंने अपना बंगला छराबड़ा में बनवाया है। लंबे अरसे के बाद यह बंगला बीते साल ही बनकर तैयार हुआ है। इस दौरान दो तीन बार इस बंगले को तोड़ कर नये सिरे से बनाया भी गया। निर्माण कार्य को देखने प्रियंका गांधी अपनी मां सोनिया गांधी के साथ अक्सर आती रहतीं रहीं हैं। वह इस दौरान दोनों पास ही के फाईव स्टार होटल में ठहरती थीं। प्रियंका को छराबड़ा इतना पंसद आया कि उन्होंने यहीं बसने का मन बना लिया।

इसे भी पढ़ें: सरकार ने पेट्रोल-डीजल पर 2.74 लाख करोड़ रुपये के कर वसूले, जनता को कुछ नहीं मिला: प्रियंका

उन्होंने अपने बंगले के लिये 2007 में छराबड़ा में जमीन खरीदी। यह जमीन साढ़े तीन बीघा से अधिक है। यूं तो हिमाचल से बाहर के लोग यहां जमीन नहीं खरीद सकते। लेकिन भाजपा व कांग्रेस, हिमाचल की दोनों सरकारों की मेहरबानी से प्रियंका को सहज में ही यह जमीन मिल गई। धारा-118 की परमिशन देने के लिए कैबिनेट में भी तेजी दिखाई गई। और प्रियंका ने धारा-118 के तहत यह जमीन खरीदी। जो आठ हजार फीट की ऊंचाई पर स्थित है और चारों तरफ से हरे-भरे देवदार के पेड़ों से घिरी है। प्रियंका ने जमीन 47 लाख रुपये में खरीदी थी। इस समय इस जमीन की कीमत करीब दो करोड़ रुपये बीघा है। कांग्रेस नेता और जिला शिमला कांग्रेस कमेटी (ग्रामीण) के अध्यक्ष रहे. केहर सिंह खाची ने इस सौदे को अंजाम तक पहुंचाया व उन्हें ही पावर आफ अटारनी दी गई। उसके बाद खाची के जरिये अगले काम हुये। प्रियंका के बंगले का निर्माण शिमला के मशहूर बिल्डर तेंजिन ने किया है। इससे पहले बंगला बनकर तैयार हो गया था। लेकिन सोनिया-प्रियंका को पसंद नहीं आया और छत सहित भवन के अधिकांश हिस्सों को गिरा कर पुनः निर्माण किया गया। प्रियंका वाड्रा गांधी का ये बंगला ठीक राष्ट्रपति निवास रिट्रीट के साथ ही बनकर तैयार हुआ है। आमतौर पर प्रियंका गांधी यहां हिमाचल कांग्रेस के नेताओं से दूरी ही बनाये रखती हैं। लेकिन केहर सिंह खाची व विद्या स्टोक्स का यहां आना जाना है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept