उमर और महबूबा को सरकार बनाने के निर्देश सीमा पार से मिले थेः राम माधव

उमर और महबूबा को सरकार बनाने के निर्देश सीमा पार से मिले थेः राम माधव

भाजपा महासचिव राम माधव ने जम्मू-कश्मीर की राजनीतिक पार्टियों पीडीपी और नेशनल कांफ्रेंस पर निशाना साधते हुए कहा है कि इन दोनों दलों को सरकार गठन के लिए सीमा पार से निर्देश मिले थे।

भाजपा महासचिव राम माधव ने जम्मू-कश्मीर की राजनीतिक पार्टियों पीडीपी और नेशनल कांफ्रेंस पर निशाना साधते हुए कहा है कि इन दोनों दलों को सरकार गठन के लिए सीमा पार से निर्देश मिले थे। माधव ने कहा कि जो पार्टियां पिछले महीने सीमा पार से मिले निर्देशों की वजह से स्थानीय निकाय चुनावों और पंचायत चुनावों का बहिष्कार कर रही थीं उन्हें अचानक ही सरकार गठन करने की बात कैसे सूझ गयी। माधव ने कहा कि शायद दोनों पार्टियों को सीमा पार से ताजा निर्देश मिले होंगे कि साथ आएं और मिलकर सरकार बनाएं। माधव ने कहा कि आज के हालात में विधानसभा भंग करने का निर्णय एकदम सही है। माधव जम्मू-कश्मीर भाजपा के प्रभारी हैं। 

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में बुधवार को विभिन्न पार्टियों द्वारा सरकार बनाने का दावा पेश करने और इसके तत्काल बाद राज्यपाल सत्यपाल मलिक की ओर से विधानसभा भंग करने की कार्रवाई के बाद राज भवन ने देर रात एक बयान जारी कर इस पर राज्यपाल का रुख स्पष्ट किया है। बयान में कहा गया है कि राज्यपाल ने चार अहम कारणों से तत्काल प्रभाव से विधानसभा भंग करने का निर्णय लिया जिनमें ‘‘व्यापक खरीद फरोख्त’’ की आशंका और ‘‘विरोधी राजनीतिक विचारधाराओं वाली पार्टियों के साथ आने से स्थिर सरकार बनना असंभव’’ जैसी बातें शामिल हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।