वृन्दावन के बांके बिहारी मंदिर में श्रद्धालुओं को जबरन चंदन-टीका लगाने पर रोक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2021   11:04
वृन्दावन के बांके बिहारी मंदिर में श्रद्धालुओं को जबरन चंदन-टीका लगाने पर रोक

उत्तर प्रदेश में मथुरा के वृन्दावन शहर में स्थित बांके बिहारी मंदिर की प्रशासनिक अधिकारी ने मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं के माथे पर जबरन टीका या चंदन लगाए जाने पर रोक लगा दी है। ऐसा करने वालों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।

मथुरा। उत्तर प्रदेश में मथुरा के वृन्दावन शहर में स्थित बांके बिहारी मंदिर की प्रशासनिक अधिकारी ने मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं के माथे पर जबरन टीका या चंदन लगाए जाने पर रोक लगा दी है। ऐसा करने वालों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी। मंदिर के राजभोग के सेवायत शैलेंद्र नाथ गोस्वामी ने प्रशासनिक अधिकारी सिविल न्यायाधीश (जूनियर डिवीजन) अर्चना सिंह से शिकायत की थी कि कई गोस्वामी जिनकी उस दिन सेवा भी नहीं होती वे मंदिर में बैठ जाते हैं और वहां दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के माथे पर चंदन या टीका लगाकर उनसे दान-दक्षिणा मांगते हैं।

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi NewsRoom। असम-मिजोरम में सुलह, शांति बनाए रखने के लिए दोनो राज्यों ने लिया संकल्प

उन्होंने कहा कि ऐसा करने से मंदिर की व्यवस्था भंग होती है तथा प्रतिष्ठा को भी आघात पहुंचता है। ऐसे में देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालु स्वयं को असहज स्थिति में पाते हैं और मंदिर के प्रति उनके मन में गलत छवि उभरती है। उन्होंने यह भी बताया कि पूर्व मंदिर प्रशासक द्वारा ऐसे मामलों पर रोक लगाने के लिए 16 मार्च 2017 में भी एक आदेश पारित किया था।

इसे भी पढ़ें: रिद्धिमान साहा गले की तकलीफ के कारण बाहर, श्रीकर भरत करेंगे विकेटकीपिंग

गोस्वामी ने बताया कि मंदिर प्रशासक न्यायाधीश ने शिकायत पर संज्ञान लेते हुए उक्त आदेश का सख्ती से अनुपालन करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही मंदिर परिसर में चबूतरे आदि पर अवैध कब्जा करने वाले और वहां बैठने वाले लोगों को भी हटाए जाने को कहा गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...