• रेहान ने लॉन्च की तस्वीरों वाली किताब, मां प्रियंका ने फोटो शेयर कर कहा- मुझे गर्व है

दिल्ली में पैदा हुए और दिल्ली, देहरादून और लंदन में पढ़ाई करने वाले रेहान ने 'डार्क पर्सेप्शन' नामक किताब भी लॉन्च की। जो तस्वीरों वाली किताब है।

नयी दिल्ली। देश की सबसे पुरानी पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने लोकसभा चुनाव 2019 में अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की और उनके भाई राहुल गांधी ने उनका स्वागत किया। लेकिन महासचिव के बेटे रेहान वाड्रा ने अपनी अलग ही दुनिया चुनी है। आपको बता दें कि रेहान वाड्रा ने राजधानी दिल्ली में खुद के द्वारा खींची गई तस्वीरों का एग्जीबिशन लगाई है। 

इसे भी पढ़ें: संगठनात्मक चुनाव स्थगित होने पर कांग्रेस ने निकाला नया फॉर्मूला ! कई उपाध्यक्षों की हो सकती है नियुक्ती 

दिल्ली में पैदा हुए और दिल्ली, देहरादून और लंदन में पढ़ाई करने वाले रेहान ने 'डार्क पर्सेप्शन' नामक किताब भी लॉन्च की। जो तस्वीरों वाली किताब है। दरअसल, प्रियंका गांधी के बेटे रेहान ने अपनी तस्वीरों के माध्यम से लोगों का ध्यान खींचने का प्रयास किया। मां प्रियंका ने भी बेटे के साथ की एक तस्वीर सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ट्विटर पर साझा की।

उन्होंने लिखा कि मुझे अपने बेटे पर गर्व है। जो अपने रास्ते को खोजने और लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए कड़ी मेहनत कर रहा है। उन्होंने बताया कि नयी दिल्ली स्थित बीकानेर हाउस में उसका पहला एग्जीबिशन और 'डार्क पर्सेप्शन' नामक किताब लॉन्च हुई।

रेहान ने कब शुरू की फोट्रोग्राफी ?

रेहान ने 10 साल की उम्र में फोटोग्राफी करना शुरू किया था। हालांकि बाद में वह लंदन चले गए। जहां पर उन्होंने स्ट्रीट फोटोग्राफी की। मीडियाकर्मियों से बातचीत में रेहान ने बताया कि उन्हें जंगल हमेशा आकर्षित करता है और उन्होंने शुरुआती दिनों में वन और वन्यजीवों से संबंधित तस्वीरें ही खींची हैं। लेकिन लंदन जाने के बाद उनका रूझान बदल गया क्योंकि वह जंगल नहीं जा पाते थे। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब चुनाव से पहले सोनिया से मिले अमरिंदर, कहा- आलाकमान का फैसला मंजूर, सिद्धू के बारे में कुछ नहीं जानता

बीकानेर हाउस में रेहान का एग्जीबिशन लगा हुआ है जो 17 जुलाई तक चलने वाला है। इस एग्जीबिशन को लेकर रेहान ने बताया कि अंधेरे में आप कोई राय नहीं बना सकते और आप अपनी कोई भी सोच विकसित करने के लिए स्वतंत्र हैं। अंधेरापन एक आजादी है और धारणा एक कारागार की तरह है।