थम नहीं रहा पंजाब का में जारी घमासान, अब चन्नी-सिद्धू आमने-सामने, दोनों को बुलाया गया दिल्ली

थम नहीं रहा पंजाब का में जारी घमासान, अब चन्नी-सिद्धू आमने-सामने, दोनों को बुलाया गया दिल्ली

मुख्यमंत्री आवास पर मंगलवार को एक बैठक हुई थी। इस बैठक में सिद्धू नहीं पहुंचे। जिसके बाद मुख्यमंत्री चन्नी और सिद्धू को दिल्ली तलब किया गया। मुख्यमंत्री चन्नी ने हाल ही में मालवा, दोआबा और माझा क्षेत्रों के ब्लॉक नेताओं के साथ क्षेत्रवार बैठक बुलाई थी, जिसमें सिद्धू नहीं पहुंचे थे।

चंडीगढ़। पंजाब कांग्रेस में चल रही खींचतान समाप्त होने का नाम नहीं ले रही है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू और मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी आमने-सामने नजर आ रहे हैं। प्राप्त जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री चन्नी ने आगामी विधानसभा चुनाव की रणनीतियां बनाने के लिए पार्टी के ब्लॉक अध्यक्षों की बैठक बुलाई थी। इसमें ब्लॉक अध्यक्षों की शिकायतें भी सुनी जानी है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री चन्नी ने नवजोत सिंह सिद्धू के कार्यक्षेत्र में प्रवेश किया है। ऐसा इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि सिद्धू इन बैठकों में मौजूद नहीं थे। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब में भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाएंगे कैप्टन अमरिंदर 

आपको बता दें कि मुख्यमंत्री आवास पर मंगलवार को एक बैठक हुई थी। इस बैठक में सिद्धू नहीं पहुंचे। जिसके बाद मुख्यमंत्री चन्नी और सिद्धू को दिल्ली तलब किया गया। मुख्यमंत्री चन्नी ने हाल ही में मालवा, दोआबा और माझा क्षेत्रों के ब्लॉक नेताओं के साथ क्षेत्रवार बैठक बुलाई थी, जिसमें सिद्धू नहीं पहुंचे थे। अंग्रेजी समाचार वेबसाइट 'इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के मुताबिक, सिद्धू के एक करीबी सूत्र ने बताया कि अगर उन्हें आमंत्रित किया जाता तो वह जाते। एक नेता ने बताया कि बैठक में कुछ लोगों ने कहा कि सिद्धू को सरकार की आलोचना नहीं करने के लिए कहा जाना चाहिए। क्योंकि इससे पार्टी को छवि खराब होती है। 

इसे भी पढ़ें: मनोहर लाल खट्टर से मिले कैप्टन अमरिंदर, बोले- थोड़ा इंतजार करिए, हम सरकार बनाएंगे 

अमरिंदर से भी भिड़ चुके हैं सिद्धू

पंजाब कांग्रेस का विवाद कोई पुराना नहीं है। इससे पहले सिद्धू ने पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पर निशाना साधते हुए कई हमले बोले थे और उनके खिलाफ माहौल बनाने की कोशिश की थी। जिसके बाद अपमानित महसूस करते हुए कैप्टन अमरिंदर ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया और फिर कांग्रेस को भी अलविदा कह दिया। फिर चन्नी की ताजपोशी हुई और उन्हें मुख्यमंत्री बना दिया गया। जिसके बाद सिद्धू ने चन्नी सरकार को घेरना शुरू कर दिया। हाल ही में तो सिद्धू ने ड्रग्स मामले को लेकर चन्नी सरकार के खिलाफ भूख हड़ताल में बैठने की बात तक कह दी।   





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...