पंजाब के मंत्री ने SAD पर साधा निशाना, कहा- केंद्र के अध्यादेशों का साथ देकर किया राज्य के हितों से धोखा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 26, 2020   09:01
पंजाब के मंत्री ने SAD पर साधा निशाना, कहा- केंद्र के अध्यादेशों का साथ देकर किया राज्य के हितों से धोखा

केन्द्र सरकार ने हाल ही में तीन अध्यादेशों... कृषि उत्पाद व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सरलीकरण) अध्यादेश, किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य बीमा समझौता और कृषि सेवा अध्यादेश और आवश्यक वस्तु (संशोधन) अध्यादेश को पारित किया है।

चंडीगढ़। पंजाब में मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू ने शिरोमणि अकाली दल (शिअद) पर आरोप लगाया कि उसने कृषि क्षेत्र संबंधी ‘पंजाब विरोधी’ केन्द्र के अध्यादेशों का साथ देकर राज्य और किसानों के साथ धोखा किया है। उन्होंने आरोप लगाया कि केन्द्र ने अपने तीन अध्यादेशों में ना सिर्फ राज्यों को मिले अधिकारों पर अतिक्रमण किया है, बल्कि उन्हें लागू करने पर मौजूदा मार्केटिंग प्रणाली ध्वस्त हो जाएगी। उन्होंने कहा, जबकि मौजूदा प्रणाली न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर किसानों से उनके उत्पादन की खरीद सुनिश्चित करती है। 

इसे भी पढ़ें: पंजाब में तीन सरकारी मेडिकल कॉलेजों में भरे जाएंगे 300 अस्थायी पद, CM अमरिंदर ने दी मंजूरी

केन्द्र सरकार ने हाल ही में तीन अध्यादेशों... कृषि उत्पाद व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सरलीकरण) अध्यादेश, किसान (सशक्तिकरण और संरक्षण) मूल्य बीमा समझौता और कृषि सेवा अध्यादेश और आवश्यक वस्तु (संशोधन) अध्यादेश को पारित किया है। सिद्धू ने कहा कि शिअद प्रमुख सुखबीर सिंह बादल को अच्छी तरह पता है कि इन अध्यादेशों से राज्य की अर्थव्यवस्था और किसान बर्बाद हो जाएंगे, लेकिन उन्होंने ‘‘सिर्फ एक मंत्रालय की चाहत में राज्य के किसानों से अपना मुंह फेर लिया।’’ यहां एक बयान में स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि राज्य के संविधान प्रदत अधिकारों में सेंध लगाने वाले केन्द्र सरकार के इस किसान विरोधी फैसले का साथ देकर बादल ने शिअद के इतिहास को दागदार बना दिया है। गौरतलब है कि सुखबीर सिंह बादल की पत्नी हरसिमरत कौर बादल केन्द्र सरकार में मंत्री हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।