'PM की सुरक्षा में नाकाम रही पंजाब पुलिस', अनुराग ठाकुर बोले- यह स्वाभाविक नहीं, सुनियोजित षड्यंत्र था

Anurag Thakur
Twitter @ BJP
अंकित सिंह । Aug 25, 2022 4:17PM
अनुराग ठाकुर ने कहा कि पंजाब पुलिस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में नाकाम रही। पीएम के दौरे के दौरान अधिकारी गायब थे। उन्होंने डीजीपी के भी गायब होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जब पीएम पंजाब के दौरे पर थे तो पंजाब के सीएम और डीजीपी गायब थे।

पंजाब चुनाव से पहले राज्य में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में हुई चूक को लेकर आज सुप्रीम कोर्ट ने बड़ी टिप्पणी की है। इसके बाद अब भाजपा कांग्रेस पर हमलावर हो गई है। भाजपा की ओर से केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने एक संवाददाता सम्मेलन किया। इस दौरान अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस पर जबरदस्त तरीके से निशाना साधा। उन्होंने साफ तौर पर कहा कि पंजाब में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में चूक हुई थी। लेकिन यह स्वाभाविक नहीं, सुनियोजित षड्यंत्र था। इसके साथ ही अनुराग ठाकुर ने पूछा कि अधिकारी किसके इशारे पर काम कर रहे थे? चरणजीत सिंह चन्नी को इसका जवाब देना होगा। आपको बता दें कि उस दौरान पंजाब में कांग्रेस की सरकार थी और चरणजीत सिंह चन्नी मुख्यमंत्री थे। 

इसे भी पढ़ें: बरसाना से दौड़ेगा उत्तर प्रदेश के विकास का इंजन, CM योगी जैव प्रौद्योगिकी के विकास को दे रहे बढ़ावा

अनुराग ठाकुर ने कहा कि पंजाब पुलिस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा में नाकाम रही। पीएम के दौरे के दौरान अधिकारी गायब थे। उन्होंने डीजीपी के भी गायब होने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि जब पीएम पंजाब के दौरे पर थे तो पंजाब के सीएम और डीजीपी गायब थे। यह एक साजिश का स्पष्ट संकेत है। भाजपा नेता ने कहा कि आंदोलनकारी उस पुल से महज 100 मीटर दूर थे जिस पर पीएम का वाहन रुका था और पाकिस्तान की सीमा महज 10 किमी दूर है। उस समय पंजाब पुलिस मूकदर्शक बनी रही। उन्होंने कहा कि कुछ भी हो सकता था। कॉल करने पर भी सीएम नहीं मिले। पीएम वहां 20 मिनट खड़े रहे लेकिन 2 मिनट भी कुछ भी होने के लिए काफी थे। 

इसे भी पढ़ें: अब मथुरा के विकास में जुटी योगी सरकार, काशी विश्वनाथ की तर्ज पर मथुरा में बनेगा बांके बिहारी कॉरिडोर

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जनवरी में पंजाब यात्रा के दौरान हुई सुरक्षा चूक के मामले की जांच करने के लिए उच्चतम न्यायालय द्वारा नियुक्त समिति ने पाया है कि फिरोजपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) पर्याप्त बल उपलब्ध होने के बावजूद अपने कर्तव्य का निर्वहन करने में विफल रहे। ठाकुर ने कहा कि फोरजेपुर एसएसपी वैकल्पिक मार्ग खोजने में 2 घंटे का समय होने के बावजूद विफल रहे। प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक को खारिज नहीं किया जा सकता। कांग्रेस के शासन के दौरान जब पीएम पंजाब पहुंचे तो सीएम, डीजीपी और मुख्य सचिव उनका स्वागत करने के लिए नहीं थे। इससे सवाल उठते हैं- प्रदर्शनकारियों को पीएम के रूट की जानकारी किसने दी? फोन पर बार-बार किससे बात कर रहे थे एसएसपी? वह किससे निर्देश ले रहे थे? 

अन्य न्यूज़