विश्वास मत के लिए निर्धारित समय सीमा पार, सीएम ने राज्यपाल की शक्ति पर उठाए सवाल

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 19 2019 2:45PM
विश्वास मत के लिए निर्धारित समय सीमा पार, सीएम ने राज्यपाल की शक्ति पर उठाए सवाल
Image Source: Google

कुमारस्वामी ने कहा कि वह राज्यपाल की आलोचना नहीं करेंगे और अध्यक्ष के आर रमेश कुमार से यह तय करने का अनुरोध करता हूं कि क्या राज्यपाल को इसके लिए समय सीमा तय करने का अधिकारी है या नहीं। जैसे ही सत्ता पक्ष ने राज्यपाल के निर्देश पर आपत्ति जताई, कांग्रेस सदस्यों ने नारे लगाए, ‘‘राज्यपाल वापस जाओ।

बेंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा शुक्रवार को मुख्यमंत्री एच. डी. कुमारस्वामी को सदन में अपना बहुमत साबित करने के लिए राज्यपाल वजुभाई वाला द्वारा निर्धारित 1.30 बजे की समय सीमा को पूरा करने में विफल रहा। यहां तक कि समय सीमा के करीब होने के बावजूद, सत्तारूढ़ गठबंधन ने राज्यपाल की शक्ति पर सवाल उठाया, जिसमें कुमारस्वामी ने उच्चतम न्यायालय के फैसले का हवाला देते हुए कहा कि राज्यपाल विधानमंडल के लोकपाल के रूप में कार्य नहीं कर सकते।

इसे भी पढ़ें: विश्वास प्रस्ताव पर बोले कुमारस्वामी, सरकार बचाने के लिए सत्ता का दुरुपयोग नहीं करूंगा

कुमारस्वामी ने कहा कि वह राज्यपाल की आलोचना नहीं करेंगे और अध्यक्ष के आर रमेश कुमार से यह तय करने का अनुरोध करता हूं कि क्या राज्यपाल को इसके लिए समय सीमा तय करने का अधिकारी है या नहीं। जैसे ही सत्ता पक्ष ने राज्यपाल के निर्देश पर आपत्ति जताई, कांग्रेस सदस्यों ने नारे लगाए, ‘‘राज्यपाल वापस जाओ।’’ जब समय सीमा समाप्त हो गई, तब भाजपा नेता बी एस येदियुरप्पा खड़े हुए और मुख्यमंत्री द्वारा पेश किए गए विश्वास मत पर वोट कराने के लिए दबाव डाला। अध्यक्ष ने कहा कि प्रक्रिया का पालन किया जाना है। चर्चा के बाद नियमों के अनुसार, अगर जोर दिया गया, तो इस पर मतदान कराया जाएगा। इसके बाद हंगामे के बीच, सदन को तीन बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video