राफेल मामले की ‘चोरी’ ने फ्रांसीसी सरकार को भी मुश्किल में डाल दिया: राहुल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2018   10:46
राफेल मामले की ‘चोरी’ ने फ्रांसीसी सरकार को भी मुश्किल में डाल दिया: राहुल

राफेल सौदे को लेकर अब फ्रांस की जनता जाँच की माँग कर रही है। उन्होंने दावा किया, गली-गली तक ही नहीं, पूरे विश्व में ये शोर है, हिंदुस्तान का चौकीदार चोर है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने राफेल लड़ाकू विमान सौदे को लेकर शनिवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर फिर निशाना साधा और कहा कि इस ‘चोरी’ ने अब फ्रांस की सरकार को भी मुश्किल में डाल दिया है। गांधी ने किया, ‘‘हमारे चौकीदार की चोरी ने, फ्रांस की सरकार को मुश्किल में डाल दिया हैं। राफेल सौदे को लेकर अब फ्रांस की जनता जाँच की माँग कर रही है।’’ उन्होंने दावा किया, ‘‘गली-गली तक ही नहीं, पूरे विश्व में ये शोर है, हिंदुस्तान का चौकीदार चोर है।’’ 

कांग्रेस अध्यक्ष ने जो खबर शेयर की है उसमें कहा गया है कि फ्रांस के एक एनजीओ ने राफेल मामले को लेकर वहां के लोक अभियोजक कार्यालय में शिकायत दर्ज कराई है। एनजीओ ने तथ्यों की गंभीरता से जांच कर यह स्पष्टीकरण उपलब्ध कराने की मांग की है कि आखिर किन नियम कायदों के जरिए भारत और फ्रांस के बीच 36 राफेल विमानों का सौदा हुआ।

पिछले कई महीनों से कांग्रेस और राहुल गांधी राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर सवाल खड़े करते आ रहे हैं। उनका आरोप है कि संप्रग सरकार के समय विमान की तय कीमत के मुकाबले मोदी सरकार ज्यादा कीमत अदा कर रही है। उनका आरोप यह भी है कि इस सौदे में ऑफसेट साझेदार के तौर पर हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स को उपेक्षित रखा गया और रिलायंस डिफेंस को फायदा पहुंचाया गया है।

सरकार की तरफ से कांग्रेस और राहुल गांधी के इन आरोपों को सिरे से खारिज किया गया है। सरकार और राफेल विनिर्माता कंपनी दसाल्ट का कहना है कि यह सौदा पूरी तरह से नियमों के तहत किया गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।