चुनावी दंगल के बीच राहुल और शाह ने MP में चखे पारंपरिक व्यंजन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2018   11:15
चुनावी दंगल के बीच राहुल और शाह ने MP में चखे पारंपरिक व्यंजन

कांग्रेस और भाजपा भले ही एक-दूसरे के धुर विरोधी हों। लेकिन बात इंदौर की मशहूर चाट-चौपाटियों का रुख करने की हो, तो दोनों दलों के राष्ट्रीय अध्यक्षों के विचार मेल खाते प्रतीत होते हैं।

इंदौर। कांग्रेस और भाजपा भले ही एक-दूसरे के धुर विरोधी हों। लेकिन बात इंदौर की मशहूर चाट-चौपाटियों का रुख करने की हो, तो दोनों दलों के राष्ट्रीय अध्यक्षों के विचार मेल खाते प्रतीत होते हैं। मध्यप्रदेश विधानसभा चुनावों की सियासी सरगर्मियों के बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पिछले एक महीने के दौरान मालवा अंचल की खुशगवार रातों में शहर के पारंपरिक जायकों का लुत्फ़ ले चुके हैं।

इसे भी पढ़ें: मोदी का हर व्यक्ति के खाते में 15 लाख रूपये जमा कराने का वादा झूठा

सूबे में अंतिम दौर के चुनाव प्रचार में जुटे शाह रविवार देर रात अचानक शहर की सर्राफा चौपाटी पहुंचे और भुट्टे का कीस तथा अन्य पारंपरिक व्यंजन चखे। इस दौरान कुछ देर के लिये बत्ती गुल हो गयी और शाह के साथ चल रहे भाजपा नेताओं ने मोबाइल की फ्लैश लाइट जलाकर उजाला किया। हालांकि, कुछ ही देर में बत्ती आ गयी। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय, पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह और कुछ अन्य वरिष्ठ नेता सर्राफा चौपाटी में शाह के साथ थे।

इसे भी पढ़ें: अमित शाह का ऐलान, राम मंदिर बनाने के संकल्प से जरा भी पीछे नहीं हटेगी भाजपा

इससे पहले, राहुल ने सूबे के चुनावी दौरे में 29 अक्टूबर की देर रात शहर की एक अन्य चाट चौपाटी 56 दुकान पहुंचकर सरसों का साग और अन्य व्यंजनों का स्वाद लिया था। जायकों के इस प्रसिद्ध ठिकाने में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ और राज्य कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के प्रमुख ज्योतिरादित्य सिंधिया उनके साथ थे। राज्य की 230 विधानसभा सीटों पर 28 नवम्बर को मतदान होना है। चुनावी नतीजे 11 दिसंबर को आयेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।