कांग्रेस के चिंतन शिविर में शामिल होने के लिए उदयपुर रवाना हुए राहुल गांधी, स्टेशन पर कुलियों से की मुलाकात

कांग्रेस के चिंतन शिविर में शामिल होने के लिए उदयपुर रवाना हुए राहुल गांधी, स्टेशन पर कुलियों से की मुलाकात
Twitter

दिल्ली के सराय रोहिल्ला स्टेशन पहुंचने के बाद राहुल गांधी ने वहां कुलियों से बातचीत की। उन्होंने उनकी समस्याओं को सुना और समाधान का आश्वासन दिया। कांग्रेस के चिंतन शिविर की शुरुआत सोनिया गांधी के भाषण से होगी। 15 तारीख को राहुल गांधी का भाषण होगा।

कांग्रेस में नई जान फूंकने के लिए चिंतन शिविर का आयोजन किया जा रहा है। 13 मई से लेकर 15 मई के बीच राजस्थान के उदयपुर में इस चिंतन शिविर का आयोजन होगा। इस चिंतन शिविर के लिए देश के सभी राज्यों से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता उदयपुर पहुंच रहे हैं। इसी कड़ी में आज राहुल गांधी भी उदयपुर के लिए रवाना हुए। राहुल गांधी एक ट्रेन के जरिए उदयपुर के लिए रवाना हुए। दिल्ली के सराय रोहिल्ला स्टेशन पहुंचने के बाद राहुल गांधी ने वहां कुलियों से बातचीत की। उन्होंने उनकी समस्याओं को सुना और समाधान का आश्वासन दिया। कांग्रेस के चिंतन शिविर की शुरुआत सोनिया गांधी के भाषण से होगी। 15 तारीख को राहुल गांधी का भाषण होगा। 

इसे भी पढ़ें: दो बार प्रधानमंत्री बनने के बाद क्या है पीएम मोदी का अगला टारगेट? खुद ही किया बड़ा खुलासा

कांग्रेस की अलग-अलग छह समितियां विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करेगी और एक निष्कर्ष तैयार किया जाएगा। कांग्रेस का दावा है कि इससे चिंतन शिविर में नए संकल्पों के साथ-साथ किसानों की समस्या पर भी चर्चा होगी तथा उन समस्याओं के समाधान का रास्ता भी निकाला जाएगा। कांग्रेस का आरोप है कि देश की अर्थव्यवस्था भाजपा सरकार के थोपे गए निर्णय के कारण गर्त में जा रही है जिसकी ऊपर इस चिंतन शिविर में चर्चा होगी। वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि 3 दिन तक यहां पर चिंतन होगा, मनन होगा। हमारे तमाम डेलिगेट्स भी एक नए संकल्प के साथ जाएंगे और जन-जन तक बात पहुंचाएंगे। जो यहां फैसले होंगे, कार्यकर्ताओं में उत्साह का संचार होगा, क्योंकि पूरी तरह से देश का मीडिया दबाव में है।

इसे भी पढ़ें: भाजपा पर हमला करते हुए गहलोत, कभी नहीं होगा कांग्रेस मुक्त भारत, ऐसी बात करने वालों से...

कई राज्यों में चुनावी पराजय के चलते ‘‘अप्रत्याशित संकट’’ का सामना कर रही कांग्रेस के शीर्ष नेताओं समेत 400 से अधिक पदाधिकारी पार्टी में नई जान फूंकने के लिए शुक्रवार से उदयपुर में तीन दिनों तक मंथन करेंगे। इस दौरान पार्टी में ‘‘समयबद्ध एवं जरूरी बदलाव’’ करने, ‘‘ध्रुवीकरण की राजनीति’’ समेत विभिन्न मुद्दों पर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का कारगर ढंग से मुकाबला करने और अगले लोकसभा चुनाव के लिए खुद को तैयार करने पर मुख्य रूप से जोर दिया जाएगा। पार्टी सूत्रों ने बताया कि उदयपुर में 13-15 मई को होने जा रहे इस चिंतन शिविर के बाद जो ‘नवसंकल्प’ दस्तावेज जारी होगा, वह आगे के कदमों की घोषणा (एक्शनेबल डिक्लियरेशन) होगा।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।