राहुल गांधी बोले- बेरोजगारी दर सबसे ज्यादा लेकिन बीजेपी की सिर्फ अमीरों को बचाने में दिलचस्पी

Rahul
प्रतिरूप फोटो
ANI
कांग्रेस नेता ने कहा कि विनिवेश और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के निजीकरण के कारण लाखों लोग नौकरी गंवा रहे हैं। गांधी ने कहा, ‘कौन लोग सार्वजनिक क्षेत्र के इन उपक्रमों को ले रहे हैं? वे देश के उन्हीं पांच या छह उद्योगपतियों के पास जा रहे हैं जो (उद्योगपति) इस सरकार से फायदा उठा रहे हैं।’

कोल्लम, 16 सितंबर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को देश में बेरोजगारी दर में वृद्धि को लेकर भाजपा एवं आरएसएस पर निशाना साधा और आरोप लगाया कि केंद्र की राजग सरकार की रुचि बस देश के कुछ उद्योगपतियों की रक्षा करने में है। भारत जोड़ो यात्रा के नौवें दिन करुणागपल्ली में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए गांधी ने कहा कि दुनिया का दूसरा सबसे धनी व्यक्ति इस देश के एक नेता का घनिष्ठ है।

उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपसे एक सरल प्रश्न पूछता हूं। यदि भारत में इस दुनिया का दूसरा सबसे धनी व्यक्ति है तो हमारे यहां बेरोजगारी की ऊंची दरों क्यों है? ..... लाखों भारतीय बेरोजगार हैं, उसका कारण यह है कि सरकार की रुचि बस कुछ उद्योगपतियों को बचाने में है। ’’ कांग्रेस नेता ने कहा कि विनिवेश और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों के निजीकरण के कारण लाखों लोग नौकरी गंवा रहे हैं। गांधी ने कहा, ‘‘कौन लोग सार्वजनिक क्षेत्र के इन उपक्रमों को ले रहे हैं? वे देश के उन्हीं पांच या छह उद्योगपतियों के पास जा रहे हैं जो (उद्योगपति) इस सरकार से फायदा उठा रहे हैं।’’

गांधी ने अपने 20 मिनट के भाषण में कहा कि इस देश के लोग जानते हैं कि आरएसएस और भाजपा ने इस सुंदर देश के साथ क्या किया है। उन्होंने कहा, “वो (लोग) देख सकते हैं कि भाजपा और आरएसएस नफरत फैला रहे हैं। वे देख सकते हैं कि कैसे भाजपा और आरएसएस सत्ता में आने के बाद एक भाई को दूसरे से लड़वाते हैं और कैसे वे लोगों को धार्मिक, सांप्रदायिक और भाषाई आधार पर बांटने का काम करते हैं।”

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) की आलोचना करते हुए गांधी ने कहा कि संघ महिलाओं को ‘दूसरे दर्जे का नागरिक’ मानता है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने कहा, “आरएसएस के लिए भारत की महिलाएं दूसरे दर्जे की नागरिक हैं। उनके पास खुद को अभिव्यक्त करने का अधिकार नहीं है। आरएसएस को लगता है कि वे महिलाओं की भूमिका को परिभाषित कर सकते हैं। इस देश के लोग समझ सकते हैं कि इससे राष्ट्र में दरार पैदा होती है। वे जानते हैं कि एक परिवार जो आपस में लड़ता है वह कमजोर होता है।”

इस बीच कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने ट्वीट कर कहा कि आज यात्रा ने 24 किलोमीटर की दूरी तय की। यात्रा का एक वीडियो ट्वीट करते हुए गांधी ने कहा, “नफरत पर प्रेम की विजय होगी।” यात्रा का शाम का चरण चावरा बस स्टैंड से शुरू हुआ जिसमें गांधी के साथ हजारों लोग थे। वे करुणागपल्ली तक गये। सुबह में यह यात्रा पोलाथोडू से प्रारंभ हुई थी। कांग्रेस का 3,570 किलोमीटर लंबा पैदल मार्च 7 सितंबर को तमिलनाडु के कन्याकुमारी से शुरू हुआ था और जम्मू-कश्मीर में समाप्त होगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़