राहुल ने केरल में शुरू किया चुनाव प्रचार, माकपा-RSS पर जमकर निशाना साधा

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 15 2019 9:23AM
राहुल ने केरल में शुरू किया चुनाव प्रचार, माकपा-RSS पर जमकर निशाना साधा
Image Source: Google

कांग्रेस कार्यकर्ताओं की ‘जन महा रैली’ को संबोधित करते हुए अध्यक्ष राहुल गांधी ने राज्य स्तर पर पार्टी के लोकसभा चुनावों के लिए प्रचार की शुरूआत की।

कोझिकोड। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरुवार को केरल में चुनाव प्रचार की शुरूआत करते हुए राज्य में सत्तारूढ़ माकपा और भाजपा-आरएसएस पर हिंसा में शामिल होने का आरोप लगाया। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर किसानों, मछुआरों और लघु व्यापारियों की आवाज अनसुना करने का भी आरोप लगाया। चुनावी सभा में दोनों दलों पर तीखे प्रहार करते हुए गांधी ने कहा कि भाजपा और माकपा हिंसा का प्रयोग करते हैं जो कमजोरों का हथियार है।

चुनावी कार्यक्रम की शनिवार को हुई घोषणा के बाद केरल के तूफानी दौरे पर गांधी ने राफेल सौदे को लेकर भी मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने कांग्रेस के सत्ता में आने पर न्यूनतम आय की गारंटी का वादा भी दोहराया। प्रधानमंत्री मोदी पर तंज कसते हुए गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री का काम देश को अपने मन की बात कहना नहीं है, बल्कि जनता की मन की बात सुनना है। उन्होंने कहा कि भाजपा के विपरीत कांग्रेस सबकी सुनती है और लोगों पर कुछ नहीं थोपती।

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल से गठबंधन को बेकरार हैं राहुल, 52000 कार्यकर्ताओं से फोन पर ली राय

कांग्रेस कार्यकर्ताओं की ‘जन महा रैली’ को संबोधित करते हुए गांधी ने राज्य स्तर पर पार्टी के लोकसभा चुनावों के लिए प्रचार की शुरूआत की। उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस इस देश पर कुछ भी थोपना नहीं चाहती। कांग्रेस पार्टी देश के लोगों की बात सुनना और उसी आधार पर काम करना चाहती है। इसलिए कांग्रेस के दरवाजे सभी के लिए खुले हैं।’ गांधी ने कहा कि कांग्रेस सबकी सुनती है, जबकि आरएसएस भारत को बताती है कि क्या करें। उनका अपना सिद्धांत है जिसे लेकर वह निश्चिंत हैं और सभी को बताना चाहते हैं कि उनका सिद्धांत सही है।



त्रिशूर के पास आयोजित मछुआरों के राष्ट्रीय संसद में कांग्रेस अध्यक्ष ने रोजगार, बैंकों से मिलने वाले ऋण आदि को लेकर भाजपा तथा मोदी पर निशाना साधा। उन्होंने तंज किया कि भाजपा के शासन में बैंकिंग सुविधाओं का लाभ महज 30-40 लोगों को मिल रहा है और यदि कांग्रेस सत्ता में आयी तो युवा उद्यमियों को आसानी से ऋण मिलेगा। गांधी ने दिन में युवा कांग्रेस के तीन दिवंगत कार्यकर्ताओं के परिजन से मिलकर उन्हें ढांढस बंधाया और न्याय दिलाने का आश्वासन दिया। इन कार्यकर्ताओं की हत्या कथित रूप से माकपा कार्यकर्ताओं ने की है।

इसे भी पढ़ें: चीन के अड़ंगा डालने के बाद बोले राहुल, कमजोर मोदी शी से डरे हुए हैं

गांधी कासारगोड में दिवंगत कार्यकर्ताओं कृपेश और शरदलाल के घर गए और परिजनों से मिलकर उन्हें आश्वासन दिया। कार्यकर्ताओं के परिजनों से मिलने के बाद गांधी ने संवाददाताओं से कहा, ‘मेरा उनसे वादा है कि चाहे कुछ भी हो जाए, उन्हें न्याय जरूर मिलेगा। हम सुनिश्चित करेंगे कि जिसने भी यह किया है उसे सजा जरूर मिले। मैं हालात समझ रहा हूं।’ उन्होंने कहा कि जिन्होंने यह किया है, मैं उन्हें आगाह कर दूं कि कानून के हाथ उनतक जरूर पहुंचेंगे। कृपेश के पिता ने बताया कि गांधी ने उन्हें आश्वासन दिया है कि हत्या की जांच सीबीआई से कराई जाएगी।

युवा कांग्रेस के कार्यकर्ताओं की 17 फरवरी को एक कार्यक्रम से लौटने के दौरान हत्या कर दी गई थी। इससे पहले गांधी ने कन्नूर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे पर शुहैब के माता पिता और बहनों के साथ करीब आधा घंटा बिताया और उन्हें पार्टी की ओर से पूरे सहयोग का आश्वासन दिया। गांधी ने प्रधानमंत्री मोदी पर किसानों, मछुआरों और छोटे कारोबारियों की आवाज ना सुनने का आरोप लगाते हुए कहा कि राजग सरकार केवल अनिल अंबानी और नीरव मोदी जैसे उद्योगपतियों की सुनती है। ‘अखिल भारतीय मत्स्य कांग्रेस’ द्वारा आयोजित ‘राष्ट्रीय मत्स्य महासभा’ को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा कि भारत में सबसे अधिक महत्वपूर्ण, लोगों की आवाज बनना है।

इसे भी पढ़ें: जब आतंकवाद पर पूरे राष्ट्र को पीड़ा होती है तो राहुल गांधी को क्यों होती है खुशी?



केरल में कांग्रेस के लोकसभा चुनाव प्रचार अभियान का बिगुल फूंकते हुए उन्होंने कहा, ‘आज की सरकार में अनिल अंबानी या नीरव मोदी की ज्यादा सुनी जाती है। वे जो कुछ भी प्रधानमंत्री से कहना चाहते हैं..10 सेकेंड में कह सकते हैं। उन्हें उसके लिए चिल्लाने की जरूरत नहीं है। वे केवल फुसफुसा कर भी अपनी बात पहुंचा सकते हैं जबकि किसानों, मछुआरों और सभी छोटे उद्यमियों को अपनी बात सरकार तक पहुंचाने के लिए सरकार के सामने जोर-जोर से चिल्लाना पड़ता है।’ 

राहुल गांधी ने वित्त मंत्री अरुण जेटली पर आरोप लगाया कि उन्होंने उद्योगपति विजय माल्या के देश से भागने से पहले उससे मुलाकात की थी। माल्या बैंक कर्ज ना चुकने के मामले में वांछित हैं। गांधी ने कहा कि यह मेरा आप से वादा है कि 2019 चुनाव जीतते ही देश के मछुआरों के पास दिल्ली में अपना एक मंत्रालय होगा।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video