राहुल का PM मोदी से सवाल, 8 चीते तो आ गए लेकिन 8 सालों में 16 करोड़ रोज़गार क्यों नहीं आए?

Rahul Gandhi
ANI
अंकित सिंह । Sep 17, 2022 7:05PM
कांग्रेस की ओर से प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन को राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया जा रहा है और यही कारण है कि सोशल मीडिया पर राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस को ट्रेंड कराया जा रहा है। आपको बता दें कि विपक्ष लगातार ये आरोप लगाता रहा है कि भाजपा ने 2014 में चुनावों के दौरान यह कहा था कि 1 साल में दो करोड़ युवाओं को रोजगार देंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज नामिबिया से लाए गए 8 चीतों को श्योपुर के कूनो उद्यान में छोड़ा। हालांकि, इसको लेकर राजनीति भी शुरू हो गई है। पहले तो इस पर क्रेडिट लेने की होड़ मची। बाद में राहुल गांधी ने इसे रोजगार से जोड़कर प्रधानमंत्री मोदी पर निशाना साधा। अपने ट्वीट में राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री से पूछा कि 8 सालों में 16 करोड़ रोजगार अब तक क्यों नहीं आए हैं? अपने ट्वीट में राहुल गांधी ने लिखा कि 8 चीते तो आ गए, अब ये बताइए, 8 सालों में 16 करोड़ रोज़गार क्यों नहीं आए? युवाओं की है ललकार, ले कर रहेंगे रोज़गार। इसके साथ ही राहुल गांधी ने #राष्ट्रीय_बेरोजगार_दिवस का भी समर्थन किया। 

इसे भी पढ़ें: योगी को छोड़कर केशव प्रसाद मौर्य को लगातार निशाना क्यों बना रहे हैं अखिलेश यादव?

दरअसल, कांग्रेस की ओर से प्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन को राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस के रूप में मनाया जा रहा है और यही कारण है कि सोशल मीडिया पर राष्ट्रीय बेरोजगार दिवस को ट्रेंड कराया जा रहा है। आपको बता दें कि विपक्ष लगातार ये आरोप लगाता रहा है कि भाजपा ने 2014 में चुनावों के दौरान यह कहा था कि 1 साल में दो करोड़ युवाओं को रोजगार देंगे। ऐसे में 8 सालों में 16 करोड रोजगार होने चाहिए। वहीं, वर्तमान में देखे तो कांग्रेस से भारत जोड़ो यात्रा निकाल रही है। कांग्रेस के राहुल गांधी लगातार भाजपा पर हमलावर है। कांग्रेस केंद्र सरकार पर बेरोजगारी, महंगाई के मुद्दे के साथ-साथ नफरत को बढ़ाने का आरोप लगा रही है। इससे पहले जयराम रमेश ने जीता प्रोजेक्ट को लेकर मनमोहन सिंह के कार्यकाल में किए गए कामों का जिक्र किया। उन्होंने आज के कार्यक्रम को पूरी तरह से तमाशा बता दिया। 

इसे भी पढ़ें: राम नगरी की बढ़ेगी रौनक, लता मंगेशकर की याद में अयोध्या में लगेगी 14 टन की भव्य कांस्य वीणा

पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश ने साफ तौर पर कहा कि भारत जोड़ो यात्रा शुरू हुए दस दिन बीत चुके हैं और हमें जो प्रतिक्रिया मिल रही है उसके मुताबिक यात्रा बेहद सफल रही है। यही कारण है कि भाजपा और उसका नेतृत्व परेशान है। अब वे कथानक बदलना चाहते हैं और मुद्दे से ध्यान हटाने का प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने अन्य ट्वीट में कहा कि प्रधानमंत्री शासन में निरंतरता को शायद ही कभी स्वीकार करते हैं। चीता प्रोजेक्ट के लिए 25 अप्रैल, 2010 को केपटाउन की मेरी यात्रा का ज़िक्र तक न होना इसका ताज़ा उदाहरण है। आज प्रधानमंत्री ने बेवजह का तमाशा खड़ा किया। यह राष्ट्रीय मुद्दों को दबाने और भारत जोड़ो यात्रा से ध्यान भटकाने का प्रयास है।

अन्य न्यूज़