राहुल को रेल मंत्री का जवाब- देश को लूटने वाले ही सब्सिडी को मुनाफा बता सकते हैं

राहुल को रेल मंत्री का जवाब- देश को लूटने वाले ही सब्सिडी को मुनाफा बता सकते हैं

कोरोना वायरस के मद्देनजर 24 मार्च को देश में लॉकडाउन लागू होने के बाद तमाम शहरों में बड़ी संख्या में प्रवासी फंस गए थे। उन्हें उनके उनके प्रदेश अथवा गृह जिले तक पहुंचाने के लिए सरकार ने श्रमिक स्पेशल ट्रेनों की व्यवस्था की थी। श्रमिक स्पेशल ट्रेनें एक मई से चलाई गई थी।

श्रमिक ट्रेनों के जरिए रेलवे की कमाई को लेकर राहुल गांधी द्वारा लगाए गए आरोपों पर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने पलटवार किया है। रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि देश को लूटने वाले ही सब्सिडी को मुनाफ़ा बता सकते है। रेलवे ने राज्य सरकारों से ली गयी राशि से कहीं अधिक पैसा श्रमिक ट्रेनों को चलाने में लगाया। अब लोग पूछ रहें हैं कि सोनिया जी के टिकट के पैसे देने के वादे का क्या हुआ?

इससे पहले राहुल गांधी ने आरोप लगाया था कि केंद्र सरकार ने कोरोना संकट के समय श्रमिक ट्रेनों के माध्यम से आपदा को मुनाफे में बदल दिया। उन्होंने एक खबर शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘‘बीमारी के ‘बादल’ छाए हैं, लोग मुसीबत में हैं। आपदा को मुनाफ़े में बदल कर कमा रही है ग़रीब विरोधी सरकार।’’ कांग्रेस नेता ने जो खबर शेयर की उसके मुताबिक, श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से रेलवे को 428 करोड़ रुपये की आमदनी हुई।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।