राजस्थान विधानसभा चुनाव: चुनावी मैदान में हैं 189 महिला उम्मीदवार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2018   12:24
राजस्थान विधानसभा चुनाव: चुनावी मैदान में हैं 189 महिला उम्मीदवार

निर्वाचन विभाग के आंकड़ों के अनुसार इस विधानसभा चुनाव के लिए कुल 281 महिलाओं ने नामांकन दाखिल किए। जांच के बाद यह संख्या 238 बची जिनमें से 49 उम्मीदवारों ने बीते दो दिन में अपने नाम वापस ले लिए।

जयपुर। राजस्थान में विधानसभा चुनाव के लिए कुल 189 महिलाएं मैदान में हैं जिनमें से सबसे अधिक 27 प्रत्याशी कांग्रेस की हैं। चुनावी समर में महिलाओं की संख्या 2013 की तुलना में 23 अधिक है। नामांकन वापस लेने की अवधि गुरुवार को समाप्त हो गयी और उसके बाद चुनावी उम्मीदवारों की स्थिति स्पष्ट हो गयी है। राज्य की 200 विधानसभा सीटों के लिए सात दिसंबर को मतदान होना है।

निर्वाचन विभाग के आंकड़ों के अनुसार इस विधानसभा चुनाव के लिए कुल 281 महिलाओं ने नामांकन दाखिल किए। जांच के बाद यह संख्या 238 बची जिनमें से 49 उम्मीदवारों ने बीते दो दिन में अपने नाम वापस ले लिए। इसके बाद चुनावी मैदान में डटी महिला उम्मीदवारों की संख्या 189 बची है।

उल्लेखनीय है कि 2013 में कुल 166 व 2008 के विधानसभा चुनाव में 154 महिला उम्मीदवारों ने अपनी राजनीतिक भाग्य आजमाया था। जहां तक जीत का सवाल है तो 2008 व 2013 दोनों की वर्ष 28-28 महिला उम्मीदवार जीतकर विधानसभा पहुंची। इस बार राज्य की 200 विधानसभा सीटों के लिए कुल 2,294 उम्मीदवार मैदान में हैं। इनमें 2,105 पुरुष व 189 महिलाएं हैं।

जहां तक प्रमुख राजनीतिक दलों का सवाल है तो कांग्रेस ने 27 महिलाओं को अपना प्रत्याशी बनाया है जबकि भारतीय जनता पार्टी ने 23 महिलाओं को टिकट दी है। कांग्रेस की कुछ प्रमुख महिला उम्मीदवारों में गिरिजा व्यास, जाहिदा खान, कृष्णा पूनिया, इंदिरा मीणा व दिव्या मदेरणा शामिल है। वहीं भाजपा की महिला उम्मीदवारों में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे के साथ साथ सिद्धि कुमारी, कृष्णेंद्र कौर, किरण महेश्वरी शामिल है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।