2016 में हुआ था किडनी ट्रांसप्लांट, डॉक्टरों ने राजनीति में प्रवेश नहीं करने की दी सलाह: रजनीकांत

Rajinikanth
अभिनेता रजनीकांत ने कहा कि हर कोई जानता है कि यह मेरा बयान नहीं था। हालांकि मेरे स्वास्थ्य की स्थिति और डॉक्टरों द्वारा मुझे दी गयी सलाह के बारे में सूचना सही थी।

चेन्नई। अभिनेता रजनीकांत ने बृहस्पतिवार को कहा कि किडनी का प्रतिरोपण कराने और कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर डॉक्टरों ने उन्हें राजनीति में प्रवेश नहीं करने की सलाह दी है। रजनीकांत ने कहा कि वह अपने संगठन ‘मंदरम’ के पदाधिकारियों के साथ विचार-विमर्श कर उपयुक्त समय पर घोषणा करेंगे कि वह राजनीति में प्रवेश करेंगे या नहीं।  

इसे भी पढ़ें: अभिनेता रजनीकांत ने संपत्ति कर का किया भुगतान, बोले- अदालत जाना भूल थी 

रजनीकांत ने अपने ट्विटर हैंडल पर कहा कि सोशल मीडिया पर आए एक बयान को उन्होंने जारी नहीं किया था, जिसमें संकेत दिया गया कि वह अपनी स्वास्थ्य की स्थिति को देखते हुए राजनीति में प्रवेश करने पर फिर से विचार कर सकते हैं। हालांकि अभिनेता ने कहा कि उनके स्वास्थ्य की स्थिति के बारे में जानकारी और डॉक्टरों द्वारा उनको दी गयी सलाह से संबंधित सूचना ‘सही थी।’ 

अभिनेता ने कहा, ‘‘हर कोई जानता है कि यह मेरा बयान नहीं था। हालांकि मेरे स्वास्थ्य की स्थिति और डॉक्टरों द्वारा मुझे दी गयी सलाह के बारे में सूचना सही थी।’’ कथित ‘बयान’ में कहा गया था वर्ष 2016 में किडनी प्रतिरोपण कराने और कोरोना वायरस महामारी के प्रसार के कारण डॉक्टरों ने रजनीकांत को राजनीति में प्रवेश नहीं करने की सलाह दी है। 

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय कैबिनेट मंत्री स्मृति ईरानी कोरोना पॉजिटिव, ट्वीट कर दी जानकारी 

‘बयान’ में कहा गया था कि उन्होंने किडनी से संबंधित दिक्कतों के समाधान के लिए 2011 में सिंगापुर के एक अस्पताल में उपचार कराया था और बाद में मई 2016 में अमेरिका के एक अस्पताल में किडनी प्रतिरोपण कराया। अभिनेता द्वारा ‘मंदरम’ संगठन की शुरुआत को राजनीति में प्रवेश से पहले की तैयारी के तौर पर देखा गया था।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़