सारदा चिट फंड मामले में राजीव कुमार सीबीआई कार्यालय नहीं पहुंचे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 20, 2019   14:22
सारदा चिट फंड मामले में राजीव कुमार सीबीआई कार्यालय नहीं पहुंचे

सीबीआई ने बृहस्पतिवार को कुमार के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट की मांग करते हुए अलीपुर अदालत का दरवाजा खटखटाया था। अदालत ने एजेंसी की याचिका का निपटान करते हुए कहा कि सीबीआई को कुमार के खिलाफ वारंट की जरूरत नहीं है क्योंकि उच्चतम न्यायालय और कलकत्ता उच्च न्यायालय ने पहले ही चिट फंड मामले में कुमार की गिरफ्तारी से रोक हटा ली है।

कोलकाता। वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार शुक्रवार को भी सीबीआई कार्यालय नहीं पहुंचे। सूत्रों ने यह जानकारी दी।  एजेंसी ने एक दिन पहले ही उनके खिलाफ ताजा नोटिस जारी किया था और सारदा चिट फंड मामले में पूछताछ के लिए पेश होने को कहा था। कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त कुमार पर आरोप है कि उन्होंने कई करोड़ रुपए के पोंजी घोटाला मामले में जांच के लिए महत्वपूर्ण सबूतों को कथित तौर पर दबाया।  इस सप्ताह की शुरुआत में भी कुमार सॉल्ट लेक क्षेत्र में स्थित सीबीआई के कार्यालय में पूछताछ के लिए पेश नहीं हुए थे और उन्होंने सीबीआई के नोटिस का उल्लंघन किया था। सीबीआई का एक विशेष जांच दल कुमार की तलाश कोलकाता के विभिन्न स्थानों पर कर रहा है।

इसे भी पढ़ें: CBI ने राजीव कुमार की तलाश में छापे मारे, शुक्रवार को पेश होने को कहा

कुमार अब अपराध जांच विभाग में अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक हैं। एजेंसी ने बृहस्पतिवार को पश्चिम बंगाल के पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर कुमार के फोन नंबर की मांग की थी ताकि उनसे संपर्क किया जा सके। कुमार सारदा घोटाले की जांच के लिए राज्य सरकार द्वारा गठित किए गए विशेष जांच दल (एसआईटी) का हिस्सा थे। इसके बाद वर्ष 2014 में उच्चतम न्यायालय ने यह मामला सीबीआई को सौंप दिया था। सीबीआई ने बृहस्पतिवार को कुमार के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट की मांग करते हुए अलीपुर अदालत का दरवाजा खटखटाया था। अदालत ने एजेंसी की याचिका का निपटान करते हुए कहा कि सीबीआई को कुमार के खिलाफ वारंट की जरूरत नहीं है क्योंकि उच्चतम न्यायालय और कलकत्ता उच्च न्यायालय ने पहले ही चिट फंड मामले में कुमार की गिरफ्तारी से रोक हटा ली है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।