केंद्र में कांग्रेस का पूर्ववर्ती शासन घोटालों की याद दिलाता है : राजनाथ

Rajnath Singh News
प्रतिरूप फोटो
ANI
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को केंद्र की पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए कहा कि उसका (कांग्रेस-नीत) शासन घोटालों की याद दिलाता है। उन्होंने यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार द्वारा भेजे गये धन में से अब एक पैसे की हेराफेरी नहीं होती है।

लखनऊ, 28 अगस्‍त। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को केंद्र की पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाते हुए कहा कि उसका (कांग्रेस-नीत) शासन घोटालों की याद दिलाता है। उन्होंने यहां एक जनसभा को संबोधित करते हुए दावा किया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार द्वारा भेजे गये धन में से अब एक पैसे की हेराफेरी नहीं होती है। सिंह ने कहा, ‘‘जब भी हम 2जी, 3जी और 4जी के बारे में सोचते हैं तो हमें कांग्रेस सरकार के घोटालों की याद आ जाती है।’’ पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी का जिक्र करते हुए सिंह ने कहा, ‘‘मैं उनकी आलोचना नहीं करना चाहता, लेकिन पूर्व प्रधानमंत्री ने तब एक बार कहा था कि सरकार द्वारा भेजे गए 100 पैसों में से केवल 15 पैसे ही अंतिम पायदान के लोगों तक पहुंचते हैं।’’

सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भ्रष्टाचार पर नकेल कसने की दिशा में ऐसा कदम उठाया है कि आज समाज के सामने सीना ठोक कर कहा जा सकता है कि दिल्ली से अगर 100 पैसे चलते हैं तो समाज के अंतिम पायदान पर बैठे व्यक्ति के खाते में भी 100 पैसे ही पहुंचता है। रक्षा मंत्री ने ‘चौक कन्वेंशन सेंटर’ में लखनऊ संसदीय क्षेत्र की 187.484 करोड़ की 161 परियोजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास किया। उन्होंने कहा, ‘‘जब तक मोदीजी हमारे प्रधानमंत्री हैं, तब तक कोई भी घोटाले में शामिल होने का प्रयास नहीं कर सकता है।’’ रक्षा मंत्री ने यह भी दावा किया कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में वैश्विक स्तर पर भारत की प्रतिष्ठा बढ़ी है।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे कई बार सबसे विकसित देश -अमेरिका- का दौरा करने का अवसर मिला। उनसे (अमेरिकियों से) प्राप्त जानकारी से मेरा सीना फूल जाता है कि भारत को लेकर दुनिया की धारणा बदल गई है।’’ रक्षा मंत्री ने कहा, ‘‘पहले जब भारत अंतरराष्ट्रीय मंच पर बोलता था तो इसकी बात को गंभीरता से नहीं लिया जाता था। ऐसी धारणा थी कि भारत जनसंख्या की दृष्टि से एक बड़ा देश है, लेकिन अर्थव्यवस्था की दृष्टि से कमजोर है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘लेकिन आज धारणा पूरी तरह से बदल गई है। जब भारत अंतरराष्ट्रीय मंच पर बोलता है तो लोग इसे ध्यान से सुनते हैं।’’

सिंह ने कहा कि जहां अन्य देश कोविड-19 महामारी के प्रतिकूल प्रभाव से उबर नहीं सके, वहीं भारत न केवल इस संकट से उबरा, बल्कि सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था के रूप में भी उभरा। उन्होंने कहा कि 300 रक्षा उपकरण अब भारत में बनाए जाएंगे। सिंह ने कहा, ‘‘भारत अब कमजोर भारत नहीं है, बल्कि मजबूत बन चुका है। मैं आपको याद दिलाना चाहूंगा कि जब पाकिस्तान के कुछ आतंकवादियों ने हमारी सेना पर हमला किया था, तब हमारे प्रधानमंत्री ने मजबूत इच्छाशक्ति दिखाई और भारत ने पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक और हवाई हमले किए।’’

रूस-यूक्रेन संघर्ष का जिक्र करते हुए सिंह ने कहा, ‘‘हमारी सरकार वह है, जो न केवल भारत में रहने वालों के बारे में सोचती है, बल्कि अपने उन नागरिकों के बारे में भी सोचती है, जो विदेशों में रहते हैं।’’ उन्होंने कहा कि संघर्ष शुरू होने पर लगभग 13,000 छात्र यूक्रेन में फंसे हुए थे, लेकिन पीएम मोदी ने दोनों युद्धरत देशों के राष्ट्रपतियों से बात की और छात्रों को भारत वापस लाने में सफलता पाई।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़