राजस्थान: पुलिसकर्मी समेत चार व्यक्तियों पर दुष्कर्म का मामला दर्ज

Raj
प्रतिरूप फोटो
Google Creative Commons
पुलिस को मिली शिकायत के अनुसार, राजेश कुमार नाम के एक व्यक्ति ने उस संगठन का दौरा किया था, जहां पीड़िता काम करती थीं। व्यक्ति ने अपनी पहचान शीर्ष-स्तरीय अधिकारी के तौर पर बतायी और महिला को कुछ नशीला पदार्थ पिलाने के बाद संगठन के संचालक की मदद से उससे दुष्कर्म किया।

जोधपुर, 3 अगस्त। पुलिस ने मंगलवार को यहां अहोर में एक गैर-सरकारी संगठन की एक महिला कर्मी से दुष्कर्म के आरोप में एक पुलिसकर्मी समेत चार लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि पीड़िता का आरोप है कि पुलिसकर्मी ने उसे घटना के बारे में किसी को नहीं बताने की धमकी दी थी। थाना प्रमुख (अहोर) निरंजन प्रताप सिंह ने बताया, हमने पीड़िता का बयान दर्ज कर लिया है और उसकी स्वास्थ्य जांच भी की गई है। हालांकि, इस मामले में अभी तक किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है।

पुलिस को मिली शिकायत के अनुसार, राजेश कुमार नाम के एक व्यक्ति ने उस संगठन का दौरा किया था, जहां पीड़िता काम करती थीं। व्यक्ति ने अपनी पहचान शीर्ष-स्तरीय अधिकारी के तौर पर बतायी और महिला को कुछ नशीला पदार्थ पिलाने के बाद संगठन के संचालक की मदद से उससे दुष्कर्म किया। पुलिस के अनुसार, घटना के कुछ दिनों बाद मुकेश कुमार नाम के एक पुलिस कांस्टेबल सहित तीन अन्य लोगों ने उससे अलग-अलग समय पर दुष्कर्म किया। उन्होंने पीड़िता से किसी भी तरह के नुकसान से बचने के लिए घटना को लेकर चुप रहने की धमकी दी और उस पर नज़र भी रखी।

इसके बावजूद महिला किसी तरह उज्जैनिया के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) के पास पहुंचीं और उन्हें घटना के बारे में बताया। उन्होंने तुरंत अहोर थाने को शिकायत दर्ज करने का निर्देश दिया और मामले की जांच शुरू कर दी। वहीं, एक अन्य घटना में जालोर के चीतलवाना क्षेत्र की एक महिला ने आरोप लगाया है कि एक व्यक्ति ने धार्मिक अनुष्ठान के बहाने उसका यौन उत्पीड़न किया। पीड़िता ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया है कि उसे हरिद्वार समेत अलग-अलग जगहों पर ले जाया गया और जेपरम नाम के शख्स ने उसके साथ बार-बार दुष्कर्म किया। पुलिस उपाधीक्षक रूप सिंह ने कहा, हमने आश्रम की साध्वी हेमलता और जेपरम के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा-385 और 376-डी के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़