• बाढ़ प्रभावित इलाकों तक पहुंचने में हो रही दिक्कत ! मुख्यमंत्री ने लोगों को दूसरी जगह शिफ्ट करने का दिया आदेश

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बताया कि सड़क और पुल क्षतिग्रस्त होने की वजह से एनडीआरएफ और अन्य बचाव दल को चिपलून में बाढ़ प्रभावित इलाकों तक पहुंचने में दिक्कत हो रही है। स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।

मुंबई। महाराष्ट्र के तटीय रायगढ़ जिले में एक गांव के नजदीक भूस्खलन की वजह से दिल दुखाने वाली खबर सामने आई। आपको बता दें कि भूस्खलन की वजह से 35 लोगों की मौत हो गई है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक इस हादसे में मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) की टीम राहत एवं बचाव कार्य में जुटी हुई है। 

इसे भी पढ़ें: महाबलेश्वर में भारी बारिश से रत्नागिरी और रायगढ़ जिलों में तबाही : अधिकारी 

इसी बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भारी बारिश की वजह से हुए भूस्खलन के चलते हुई मौतों पर दुख जताया। उन्होंने कहा कि रायगढ़ के तलाई गांव में भूस्खलन से करीब 35 लोगों की मौत हुई है। कई जगहों पर रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। मैंने उन लोगों को निकालने और उन्हें दूसरी जगह ले जाने का आदेश दिया है जो उन क्षेत्रों में रह रहे हैं जहां भूस्खलन की संभावना है।

उन्होंने बताया कि सड़क और पुल क्षतिग्रस्त होने की वजह से एनडीआरएफ और अन्य बचाव दल को चिपलून में बाढ़ प्रभावित इलाकों तक पहुंचने में दिक्कत हो रही है। स्थिति तनावपूर्ण बनी हुई है।

बता दें कि राहत एवं बचाव कार्य में जुटी टीम ने 15 लोगों को सुरक्षित निकाला है। जबकि 40 लोगों के फंसे होने की आशंका जताई जा रही है। उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने लगातार हो रही बारिश से उत्पन्न स्थिति की समीक्षा की है। महाराष्ट्र सरकार में मंत्री विजय वडेट्टीवार ने बताया कि बीते दिन मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री से बात की थी और उन्होंने हरमुमकिन मदद का आश्वासन दिया था। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में लगातार बारिश से बाढ़ जैसे हालात, PM मोदी से CM उद्धव से बात 

वडेट्टीवार ने बताया कि प्रधानमंत्री ने हर तरह की मदद भेजी है। एनडीआरएफ, नेवी, कोस्ट गार्ड और मिलिट्री के माध्यम से बचाव कार्य चल रहा है। कुछ जगहों पर रेड अलर्ट की स्थिति पैदा हुई है।