नीति आयोग की बैठक में बोले PM मोदी, प्राइवेट सेक्टर की ऊर्जा का करें सम्मान

Narendra Modi
अनुराग गुप्ता । Feb 20, 2021 11:10AM
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम ये भी देख रहे हैं कि कैसे देश का प्राइवेट सेक्टर, देश की इस विकास यात्रा में और ज्यादा उत्साह से आगे आ रहा है। सरकार के नाते हमें इस उत्साह का, प्राइवेट सेक्टर की ऊर्जा का सम्मान भी करना है।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की बैठक की अध्यक्षता की। इस दौरान उन्होंने कहा कि हमने कोविड के दौरान देखा है कि कैसे केंद्र और राज्य सरकार ने देश को सफल बनाने के लिए एक साथ काम किया है। इससे विश्व स्तर पर देश की सकारात्मक छवि बनाई गई है। कई राज्यों ने तेजी से विकास की दिशा की तरफ काम किया है। उन्होंने कहा कि केंद्र और राज्य एक साथ मिलकर काम करें और विकास प्राइम एजेंडा होना चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: PM मोदी अरुणाचल, मिजोरम के स्थापना दिवस पर लोगों को दी बधाई, बोले- राज्य प्रगति की नयी ऊंचाइयों को करे हासिल 

उन्होंने कहा कि सहकारी संघवाद (Cooperative federalism) को और अधिक सार्थक बनाना और यही नहीं हमें प्रयत्न पूर्वक प्रतिस्पर्धी सहकारी संघवाद (Competitive cooperative federalism) को न सिर्फ राज्यों के बीच, बल्कि डिस्ट्रिक्ट तक ले जाना है। ताकि विकास की स्पर्धा निरंतर चलती रहे।

2.4 करोड़ से अधिक घर बनाए गए

प्रधानमंत्री ने कहा कि साल 2014 से ग्रामीण और शहरी भारत में 2.4 करोड़ से अधिक घर बनाए गए हैं। एक और पहल चल रही है जिसमें भारत में छह राज्यों में आधुनिक तकनीक से मकान बनाए जा रहे हैं। कुछ महीनों में नए मॉडल के साथ मजबूत घर बनाए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि जल जीवन मिशन के अस्तित्व में आने के बाद से पिछले 18 महीनों में ही 3.5 करोड़ से अधिक ग्रामीण परिवारों को पाइप कनेक्शन के साथ जोड़ा गया है। भारत नेट योजना भी हमारे गांवों को इंटरनेट से जोड़ने के लिए एक प्रमुख परिवर्तनशील सुविधा बन गई है। ऐसी सभी योजनाओं में केंद्र और राज्य मिलकर काम करेंगे तो काम की गति भी बढ़ेगी। 

इसे भी पढ़ें: वित्त मंत्री ने विपक्ष पर लगाया कृषि कानूनों के खिलाफ दुष्प्रचार करने का आरोप, कही यह बात 

प्रधानमंत्री ने कहा कि हम ये भी देख रहे हैं कि कैसे देश का प्राइवेट सेक्टर, देश की इस विकास यात्रा में और ज्यादा उत्साह से आगे आ रहा है। सरकार के नाते हमें इस उत्साह का, प्राइवेट सेक्टर की ऊर्जा का सम्मान भी करना है और उसे आत्मनिर्भर भारत अभियान में उतना ही अवसर भी देना है। उन्होंने कहा कि आत्मनिर्भर भारत अभियान, एक ऐसे भारत का निर्माण का मार्ग है जो न केवल अपनी आवश्यकताओं के लिए बल्कि विश्व के लिए भी उत्पादन करे और ये उत्पादन विश्व श्रेष्ठता की कसौटी पर भी खरा उतरे।

उन्होंने कहा कि देश ने तेज गति से आगे बढ़ने और समय बर्बाद न करने का मन बना लिया है। युवाओं ने इस परिवर्तन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। भारत का निजी क्षेत्र भी ऊर्जा के साथ आगे आ रहा है।

यहां सुने पूरा भाषण: 

अन्य न्यूज़