राजद ने 14 साल से अधिक जेल में बिताने वाले नेताओं की रिहाई की मांग की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 4, 2021   08:36
राजद ने 14 साल से अधिक जेल में बिताने वाले नेताओं की रिहाई की मांग की

प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर राजनीतिक द्वेष के तहत विपक्षी दलों से जुडे ऐसे नेताओं को रिहा नहीं करने का आरोप लगाते हुए कहा कि आनंद मोहन और राजेंद्र यादव को रिहा करने की अनिच्छा राजनीति से प्रेरित है।

पटना| बिहार की मुख्य विपक्षी पार्टी राजद ने शुक्रवार को मांग की कि 14 साल से अधिक समय तक जेल में सजा काट चुके राजनेताओं को तत्काल रिहा किया जाए।

बिहार विधानसभा में चेतन आनंदसहित राजद और अन्य विपक्षी दलों के विधायकों द्वारा शुक्रवार को 14 साल से अधिक समय तक जेल में सजा काट चुके राजनेताओं की तत्काल रिहाई के लिए एक ध्यानकर्षण लाया गया था।

आनंद के पिता आनंद मोहन सिंह को हत्या के मामले में मौत की सजा दी गई थी जिसे बाद में आजीवन कारावास में बदल दिया गया था।

बाद में बिहार विधानसभा परिसर में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव के साथ पत्रकारों के साथ बातचीत के दौरान चेतन ने कहा, ‘‘मैंने सदन के सदस्य और एक पीड़ित परिवार के सदस्य के रूप में इस मामले को उठाया था।’’

चेतन ने कहा,‘‘ प्रभारी मंत्री द्वारा मेरे निवेदन का जवाब स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि ऐसे कैदियों को रिहा करने का सरकार का कोई इरादा नहीं है। मैंने न केवल अपने पिता के लिए बल्कि राजेंद्र यादव सहित कई अन्य लोगों की रिहाई के लिए यह मामला सदन में उठाया था।’’

राजेंद्र यादव गया के अतरी से राजद के पूर्व विधायक हैं जिन्हें जदयू के एक कार्यकर्ता की हत्या के लिए दोषी ठहराया गया है जो फरवरी 2005 में सीट जीतने के बाद विजय जुलूस निकाल रहे थे।

प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर राजनीतिक द्वेष के तहत विपक्षी दलों से जुडे ऐसे नेताओं को रिहा नहीं करने का आरोप लगाते हुए कहा कि आनंद मोहन और राजेंद्र यादव को रिहा करने की अनिच्छा राजनीति से प्रेरित है। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि एक निवर्तमान मंत्री के भतीजे का नाम करीब एक महीने पहले हुई एक हत्या में आने के बाद भी उसे अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया।

राजद नेता तेजस्वी यादव ने बाद में पटना स्थित प्रदेश मुख्यालय में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पूर्णिया जिले से जुडे एक हत्याकांड पर भी बात की।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...