WB में कानून का शासन ध्वस्त हो चुका है, सरकार को आत्ममंथन करना चाहिए: राज्यपाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 30, 2020   15:52
WB में कानून का शासन ध्वस्त हो चुका है, सरकार को आत्ममंथन करना चाहिए: राज्यपाल

ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधते हुए राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने बृहस्पतिवार को कहा कि तृणमूल कांग्रेस शासन को इसका आत्ममंथन करना चाहिए कि पश्चिम बंगाल में कानून का शासन क्यों ध्वस्त हो गया है। उधर, सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने पलटवार करते हुए कहा कि राज्यपाल एक खास दल के कार्यकर्ता की तरह व्यवहार कर रहे हैं।

कोलकाता। ममता बनर्जी सरकार पर निशाना साधते हुए राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने बृहस्पतिवार को कहा कि तृणमूल कांग्रेस शासन को इसका आत्ममंथन करना चाहिए कि पश्चिम बंगाल में कानून का शासन क्यों ध्वस्त हो गया है। उधर, सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने पलटवार करते हुए कहा कि राज्यपाल एक खास दल के कार्यकर्ता की तरह व्यवहार कर रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: दिल्ली विधानसभा चुनाव में ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस करेगी आप का समर्थन

शहादत दिवस के अवसर पर राष्ट्रपिता को श्रद्धांजलि देने के लिए उत्तरी 24 परगना के बैरकपुर में गांधी घाट पहुंचे धनखड़ ने संवाददाताओं से बातचीत में आरोप लगाया, ‘‘राज्य में कानून का शासन पूरी तरह ध्वस्त हो चुका है। कानून-व्यवस्था की स्थिति पूरी तरह बिगड़ चुकी है । राज्य सरकार को गंभीर आत्ममंथन करने की जरूरत है।’’

इसे भी पढ़ें: क्या ममता बनर्जी की पार्टी में शामिल होंगे प्रशांत किशोर ? मिल रहे ये संकेत

तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मंत्री सोवनदेव चट्टोपाध्याय ने कहा कि राज्यपाल एक राजनीतिक दल के कार्यकर्ता की तरह काम करना बंद करें क्योंकि उनका आचरण राज्यपाल पद के उपयुक्त नहीं है। पिछले साल जुलाई में राज्यपाल बनने के बाद से धनखड़ का कई मुद्दों पर राज्य सरकार के साथ टकराव चलता रहा है।

इसे भी देखें: West Bengal में मारे गये BJP कार्यकर्ताओं के परिजन दिल्ली पहुँचे, सुनाई आपबीती





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।