केरल में भारी बारिश के चलते सबरीमाला मंदिर के कपाट एक दिन के लिए बंद, ऑनलाइन बुक हो रहा स्लॉट

केरल में भारी बारिश के चलते सबरीमाला मंदिर के कपाट एक दिन के लिए बंद, ऑनलाइन बुक हो रहा स्लॉट

कोरोना महामारी के खतरे से जूझते हुए श्रद्धालुओं के सबरीमाला स्थित भगवान अयप्पा के प्रसिद्ध मंदिर के कपाट खोले गए थे लेकिन भारी बारिश के चलते जलभराव और उससे पैदा होने वाले संभावित खतरों को देखते हुए कपाट को एक दिन के बंद कर दिया गया।

पथनमथिट्टा। केरल में भारी बारिश के चलते सबरीमाला स्थित भगवान अयप्पा के कपाट एक दिन के लिए बंद कर दिए गए। दरअसल, जलभराव और संभावित खतरे को देखते हुए प्रशासन ने श्रद्धालुओं से शनिवार को सबरीमाला मंदिर की यात्रा नहीं करने की सलाह दी है। 

इसे भी पढ़ें: केरल में भारी बारिश, IMD ने एर्णाकुलम, इडुक्की, त्रिशूर में रेड अलर्ट किया घोषित, बांधों में जलस्तर खतरे के निशान तक पहुंचे 

आपको बता दें कि कोरोना महामारी के खतरे से जूझते हुए श्रद्धालुओं के सबरीमाला स्थित भगवान अयप्पा के प्रसिद्ध मंदिर के कपाट खोले गए थे लेकिन भारी बारिश के चलते जलभराव और उससे पैदा होने वाले संभावित खतरों को देखते हुए कपाट को एक दिन के बंद कर दिया गया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्रशासन ने बताया कि पंबा डैम का जलस्तर खतरे के निशान के ऊपर पहुंच चुका है। जिसे एक दिन बाद खोला जाएगा। इतना ही नहीं कक्की-अनाथोड जलाशय का जलस्तर भी खतरे के निशान के ऊपर है।

मौसम ठीक होने पर होंगे दर्शन

पठानमथिट्टा की जिला कलेक्टर दिव्या एस अय्यर ने बताया कि वर्चुअल कतार के जरिए श्रद्धालुओं को मौसम ठीक होने पर भगवान अयप्पा के दर्शन कराए जाएंगे। इसी बयान में उन्होंने पंबा और सबरीमाला की तीर्थयात्रा को एक दिन के लिए प्रतिबंधित करने की बात कही थी। 

इसे भी पढ़ें: बीजेपी ने 5 राज्यों के चुनाव में खर्च किए 252 करोड़, अकेले बंगाल में ही लगाया 60 प्रतिशत हिस्सा 

ऑनलाइन बुक होगा स्लॉट

सबरीमाला स्थित भगवान अयप्पा के प्रसिद्ध मंदिर में पूजा अर्चना करने के लिए श्रद्धालुओं को वर्चुअल कतार के जरिए जाने की अनुमति लेनी होगी। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, कोरोना के चलते सरकार ने इस बार वर्चुअल कतार व्यवस्था के जरिए हर रोज महज 30 हजार श्रद्धालुओं को दर्शन करने की अनुमति दी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।