समीर वानखेड़े की पत्नी ने नवाब मलिक के दावों को बताया झूठा, बोलीं- ट्विटर पर कुछ भी लिखने से सच नहीं हो जाएगा

समीर वानखेड़े की पत्नी ने नवाब मलिक के दावों को बताया झूठा, बोलीं- ट्विटर पर कुछ भी लिखने से सच नहीं हो जाएगा

एनसीबी अधिकारी समीर वानखेड़े की पत्नी क्रांति वानखेड़े ने कहा कि ये सारे दावे झूठे हैं और अगर उनके (नवाब मलिक) पास ऐसा कोई सबूत है तो वे (नवाब मलिक) कोर्ट में पेश करें तभी उस पर न्याय होगा। ट्विटर पर कोई भी कुछ भी लिख सकता है जो सच नहीं हो जाएगा।

मुंबई। महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने एनसीबी के अधिकारी समीर वानखेड़े पर गैरकानूनी रूप से फोन टैप करने का आरोप लगाया। इस पर समीर वानखेड़े की पत्नी क्रांति वानखेड़े का बयान सामने आया। उन्होंने कहा कि ये सारे दावे झूठे हैं। ट्विटर पर कोई भी कुछ भी लिख सकता है। 

इसे भी पढ़ें: नवाब मलिक का आरोप, समीर वानखेड़े ने गैरकानूनी तरीके से फोन टैप कराए 

क्या गलत हैं सारे दावे ?

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक समीर वानखेड़े की पत्नी क्रांति वानखेड़े ने कहा कि ये सारे दावे झूठे हैं और अगर उनके (नवाब मलिक) पास ऐसा कोई सबूत है तो वे (नवाब मलिक) कोर्ट में पेश करें तभी उस पर न्याय होगा। ट्विटर पर कोई भी कुछ भी लिख सकता है जो सच नहीं हो जाएगा।

क्रांति वानखेड़े ने कहा कि हमें कोर्ट क्यों जाना चाहिए ? हमारे खिलाफ आरोप लगाने वालों को कोर्ट जाना चाहिए। हम 'करोड़पति' नहीं हैं, हम साधारण लोग हैं। समीर एक ईमानदार अफसर है। कई लोग चाहते हैं कि उन्हें हटाया जाए।

दरअसल, एनसीपी नेता नवाब मलिक ने अपने दामाद की गिरफ्तारी के बाद से लगातार समीर वानखेड़े पर निशाना साधा और कई तरह के अलग-अलग दावे किए। उन्होंने कहा कि वह समीर वानखेड़े की विभिन्न गैरकानूनी गतिविधियों के बारे में एनसीबी में किसी के द्वारा लिखे एक पत्र को एजेंसी के डीजी एसएन प्रधान को भेज रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: नवाब मलिक ने समीर वानखेड़े को बताया मुस्लिम, कहा- फर्जी दस्तावेज बनवाकर नौकरी पाई और दलित का हक छीना 

नवाब मलिक ने कहा कि एनसीबी को पत्र में लिखे 26 आरोपों की जांच करनी चाहिए जिसमें आरोप लगाया गया है कि ड्रग्स रोधी एजेंसी के भीतर वसूली का गिरोह चलाया जा रहा है और इसमें समीर वानखेड़े और उनके कुछ सहकर्मी शामिल हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।