संजय सिंह ने राज्यसभा में गोवा में माइनिंग पर लगे प्रतिबंध के मुद्दे को स्पेशल मेंशन के तहत उठाया

संजय सिंह ने राज्यसभा में गोवा में माइनिंग पर लगे प्रतिबंध के मुद्दे को स्पेशल मेंशन के तहत उठाया

राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने अपने ज्ञापन में यह भी कहा कि निगम निकाय का झांसा डबल इंजन की सरकार चलाने जैसा है जिससे किसी का भी भला नहीं हो सकता है।

नयी दिल्ली। राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने राज्यसभा के मानसून सत्र के दौरान गोवा में खनन कार्य पर लगी पाबंदी के मुद्दे को "स्पेशल मेंशन" के माध्यम से उठाया। उन्होंने जल्द से जल्द खनन पर लगी पाबंदी को हटाने की मांग की, खनन पर लहि पाबंदी की वजह से प्रदेश में गरीबी और भुखमरी की स्थिति फैल रही है। सिंह ने बताया कि गोवा की दो तिहाई जनता प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से खनन कार्य पर आश्रित है। उनके अनुसार कोरोना की महामारी से राज्य का पर्यटन उद्योग बिल्कुल ठप पड़ा हुआ है ऐसी स्थिति में खनन कार्य को अनुमति नहीं मिलने के कारण जनता भूखमरी के कगार पर पहुंच चुकी है। 

इसे भी पढ़ें: चुनाव से पहले UP में एसपी और आप साथ-साथ ! आखिर बढ़ती नजदीकियों की वजह क्या है ? 

ज्ञातव्य हो कि पिछले दो-तीन साल से गोवा में खनन के कार्य पर राज्य सरकार द्वारा पाबंदी लगा दी गई है । राज्य सरकार जनता को स्थानीय निगम निकाय का झांसा दे रही है। सिंह ने अपने ज्ञापन में यह भी कहा कि निगम निकाय का झांसा डबल इंजन की सरकार चलाने जैसा है जिससे किसी का भी भला नहीं हो सकता है। जनता भूख से मर रही है और सरकार उसे यहां से वहां भटका रही है। सिंह ने तल्ख लहजे में कहा कि सरकार अपनी जिम्मेदारियों से पैर खींच रही है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।