कोयला की कमी से जूझ रहे देश को उदित राज के सहारे राहत दिलाने की बात कांग्रेस नेता को गुजरी नागवार, पुलिस में कराई शिकायत

कोयला की कमी से जूझ रहे देश को उदित राज के सहारे राहत दिलाने की बात कांग्रेस नेता को गुजरी नागवार, पुलिस में कराई शिकायत

बीजेपी नेता एवं युवा मोर्चा के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संतोष रंजन राय ने बिजली संकट को लेकर उदित राज पर टिप्पणी कर दी जो कि उन्हें इस कदर नागवार गुजरी कि इसके खिलाफ कांग्रेस नेता ने शिकायत दर्ज करा दी है।

देश में कोयले की कमी इन दिनों सबसे ज्यादा चर्चित विषय है। कई राज्यों ने इसके चलते बिजली संकट गहराने की आशंका जताई है।  दिल्ली, पंजाब, आंध्र प्रदेश समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। इसमें जल्द से जल्द कोयले की कमी दूर करने की मांग की गई है। लेकिन अब इसको लेकर विवाद भी शुरू हो गया है। बीजेपी नेता एवं युवा मोर्चा के पूर्व राष्ट्रीय उपाध्यक्ष संतोष रंजन राय ने बिजली संकट को लेकर उदित राज पर टिप्पणी कर दी जो कि उन्हें इस कदर नागवार गुजरी कि इसके खिलाफ कांग्रेस नेता ने शिकायत दर्ज करा दी है। 

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय मंत्री सिंधिया ने स्वास्थ्य मंत्री प्रभुराम चौधरी की भगवान श्री राम से की तुलना, कांग्रेस ने दर्ज किया अपना विरोध

जिसके संबंध में जानकारी देते हुए उदित राज ने खुद ही बताया कि कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पर संतोष रंजन राय द्वारा जातिवादी और नस्लभेदी टिप्पणी की गयी है। उन्होंने इसके संबंध में पुलिस में शिकायत करते हुए कहा कि उक्त व्यक्ति द्वारा  यह ट्वीट जाति व नस्ल को देखकर समाज में विभाजन करने एवं दंगा , हिंसा भड़कने की नीयत, डॉ उदित राज की बेइज्जती करने और उनकी ह्त्या करने के लिए उकसाने की नीयत से लिखा गया है। इसके साथ ही उन्होंने इससे संबंधित ट्विट का भी उल्लेख किया जिसमें कहा गया कि “सरकार ने कह दिया है कोयले कोई कमी नहीं है फिर भी अगर कहीं भी कोयला की कमी हो तो उदित राज का इंधन में उपयोग कर सकते हैं ।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...