इन्सेफलाइटिस पर दायर याचिका पर SC ने केंद्र और यूपी, बिहार सरकार को भेजा नोटिस

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 15 2019 6:45PM
इन्सेफलाइटिस पर दायर याचिका पर SC ने केंद्र और यूपी, बिहार सरकार को भेजा नोटिस
Image Source: Google

याचिका में दावा किया गया है कि केन्द्र और राज्य सरकारों की गंभीर लापरवाही की वजह से अब तक बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में एक सौ से अधिक बच्चों की मौत हो चुकी है और अभी इनकी संख्या बढ़ रही है।

नयी दिल्ली। उच्चतम न्यायालय ने इन्सेफलाइटिस की बीमारी पर नियंत्रण पाने के लिये तत्काल कदम उठाने और इस बीमारी से प्रभावित लोगों को आवश्यक चिकित्सा सुविधायें उपलब्ध कराने के लिये दायर जनहित याचिका पर सोमवार को केन्द्र और बिहार तथा उप्र सरकार से जवाब मांगा। न्यायालय में इस मुद्दे पर पहले से ही एक याचिका लंबित है। प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता की पीठ ने अधिवक्ता शिव कुमार त्रिपाठी की याचिका पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के साथ ही बिहार और उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्य सचिवों और स्वास्थ सचिवों को नोटिस जारी किये। इस याचिका पर पहले से ही लंबित एक अन्य याचिका के साथ ही सुनवाई की जायेगी। इस याचिका में केन्द्र और राज्य सरकार को इस बीमारी से ग्रस्त बच्चों के इलाज और इस बीमारी को फैलने से रोकने के लिये पर्याप्त सुविधाओं का सृजन करने का निर्देश देने का अनुरोध किया गया है।

इसे भी पढ़ें: AES से बच्चों की मौत पर बिहार विधानसभा में हंगामा, मंगल पांडे के इस्तीफे की उठी मांग

याचिका में दावा किया गया है कि केन्द्र और राज्य सरकारों की गंभीर लापरवाही की वजह से अब तक बिहार के मुजफ्फरपुर जिले में एक सौ से अधिक बच्चों की मौत हो चुकी है और अभी इनकी संख्या बढ़ रही है।याचिका में इस बीमारी के फैलने और एक सौ से अधिक बच्चों की मौत के कारणों का पता लगाने तथा इसके लिये जिम्मेदारी निर्धारित करने के लिये मेडिकल विशेषज्ञों का एक दल गठित करने का निर्देश देने का भी अनुरोध किया है। याचिका में कहा गया है कि विशेषज्ञों की इस समिति को तीन महीने के भीतर अपनी रिपोर्ट न्यायालय को देनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: लचर स्वास्थ्य व्यवस्था से उजड़ रहे परिवार, सदन में आंकड़ें बताते सुशासन कुमार



इसी तरह, याचिका में इस बीमारी की महामारी में जान गंवाने वाले बच्चों के परिवारों को समुचित मुआवजा दिलाने और इस बीमारी की रोकथाम के लिये जागरूकता अभियान चलाने का निर्देश देने का भी अनुरोध किया गया है।  न्यायालय ने इस मुद्दे पर एक अन्य अधिवक्ता मनोहर प्रताप की याचिका पर 24 जून को राज्य सरकार को सार्वजनिक चिकित्सा सुविधाओं के बारे में एक सप्ताह के भीतर अवगत कराने का निर्देश दिया था।मनोहर प्रताप ने अपनी याचिका में कहा था कि बिहार में एक से दस साल के आयुवर्ग के 126 से अधिक बच्चों की इस बीमारी से मृत्यु हो चुकी है।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video