चीनी मिल बिक्री में हुआ 25 हजार करोड़ का घोटाला! जांच के लिए अन्ना हजारे ने अमित शाह को लिखा पत्र

anna hazare
अंकित सिंह । Jan 25, 2022 12:49PM
हजारे ने लिखा कि हम नेताओं के साथ साठगांठ कर वर्ष 2009 से चीनी मिलों को औने पौने दाम पर बेचने और सहकारी वित्तीय संस्थानों में अनियमितता के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। वर्ष 2017 में हमने मुंबई में शिकायत दर्ज कराई और एक डीआईजी स्तर के अधिकारी को शिकायत की जांच के लिए नियुक्त किया गया।

सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने महाराष्ट्र के सरकारी चीनी मिलों को औने पौने दाम में बेचने का बड़ा आरोप लगाया है। इसी को लेकर उन्होंने केंद्रीय गृह और सहकारिता मंत्री अमित शाह को पत्र लिखा है। अपने पत्र में अन्ना हजारे ने 25000 करोड़ के घोटालों का आरोप लगाया है और सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस से जांच कराने की मांग की है। इसके साथ ही अन्ना हजारे ने अपने पत्र में इस बात का भी अनुरोध किया है कि कथित घोटाले की जांच कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट के अवकाश प्राप्त न्यायाधीश की अध्यक्षता में उच्च अधिकार प्राप्त समिति का भी गठन किया जाए।

इसे भी पढ़ें: गृह मंत्री अमित शाह ने कैराना में किया डोर-टू-डोर कैंपेन, बोले- 10 फरवरी को कमल का बटन दबाना है

आपको बता दें कि अन्ना हजारे लगातार ऐसे मामले को लेकर अपनी संवेदनशीलता दिखाते रहे हैं। अपने पत्र में अन्ना हजारे ने दावा किया है कि साल 2009 से चीनी मिलों को औने पौने दाम में बेचा जा रहा है और सहकारी वित्तीय संस्थानों में अनियमितता के खिलाफ हम लगातार विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। हजारे ने लिखा कि हम नेताओं के साथ साठगांठ कर वर्ष 2009 से चीनी मिलों को औने पौने दाम पर बेचने और सहकारी वित्तीय संस्थानों में अनियमितता के खिलाफ विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। वर्ष 2017 में हमने मुंबई में शिकायत दर्ज कराई और एक डीआईजी स्तर के अधिकारी को शिकायत की जांच के लिए नियुक्त किया गया।

इसे भी पढ़ें: यूपी में योगी-अखिलेश के बीच काँटे की टक्कर, प्रियंका का भी बढ़ा आत्मविश्वास

अन्ना हजारे ने बताया कि दो साल बाद मामले को बंद करने की रिपोर्ट लगाई गई जिसमें कहा गया कि कोई अनियमितता नहीं मिली है। वयोवृद्ध भष्ट्राचार रोधी कार्यकर्ता ने सवाल किया कि अगर महाराष्ट्र सरकार 25 हजार करोड़ रुपये के घोटाले के खिलाफ कार्रवाई नहीं करेगी तो कौन कदम उठाएगा? उन्होंने कहा कि केंद्र ने किसानों के कल्याण और सहकारी क्षेत्र की बेहतरी के लिए सहकारिता मंत्रालय बनाया है। हजारे ने कहा कि हमारा विचार है कि यह अच्छा उदाहरण होगा, अगर केंद्र, महाराष्ट्र की चीनी मिलों को बेचने की जांच उच्च स्तरीय समिति गठित कर कराती है।’’ हजारे ने हालांकि, अपने पत्र में किसी सहकारी चीन मिल के नाम का उल्लेख नहीं किया है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़