सिंधिया की डिनर डिप्लोमेसी, प्रदेश अध्यक्ष या राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए निशाना

By दिनेश शुक्ला | Publish Date: Jul 11 2019 7:42PM
सिंधिया की डिनर डिप्लोमेसी, प्रदेश अध्यक्ष या राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए निशाना
Image Source: Google

ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि प्रदेश की सरकार टीम भावना के अधार पर चलना चाहिए यहां सब बराबर है। यही नहीं सिंधिया ने कहा कि राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए पार्टी को जल्द ही निर्णय लेना होगा।

मध्यप्रदेश में लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार के बाद पहली बार राजधानी भोपाल पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने जहां खुद को हार के लिए जिम्मेदार माना वहीं उन्होंने कमलनाथ के नेतृत्व में बनी अपनी ही पार्टी की सरकार को यह बता दिया कि उनके बिना सरकार चलाना संभव ही नहीं नामुमकिन भी है। मध्यप्रदेश विधानसभा पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने साफ तौर पर कह दिया कि सरकार में कोई छोटा-बड़ा नहीं है यहां तक कि मुख्यमंत्री भी किसी से बड़े नहीं है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि प्रदेश की सरकार टीम भावना के अधार पर चलना चाहिए यहां सब बराबर है। यही नहीं सिंधिया ने कहा कि राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए पार्टी को जल्द ही निर्णय लेना होगा। 

 
सात हफ्ते बीत गए है यह समय सबको साथ मिलकर संयुक्त निर्णय लेने का है न कि कांग्रेस जनों को अपना एजेंडा चलाने का। उनकी इस वक्तव्य ने यह तो साफ कर दिया कि पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा। राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने भी महासचिव पद से इस्तीफा दे दिया था। जिसकी जानकारी उन्होनें ट्वीट कर दी थी। वहीं भोपाल पहुंचे सिंधिया अलग ही रूप में नज़र आए। कुछ महिने पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया को प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के लिए जो लोग लॉबिंग कर रहे थे वह आज उनको राष्ट्रीय अध्यक्ष बनाने के लिए जोड़-तोड में लग गए है। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कर्नाटक और गोवा की तरह मध्यप्रदेश में भी कांग्रेस में फूट पड़ने की खबर पर विराम लगाते हुए कहा कि प्रदेश की सरकार स्थिर है। 
विपक्ष मुंगेरीलाल के हंसी सपने देखना छोड़ दे। कांग्रेस लोकतांत्रिक दल है यहां मतभेद हो सकते है पर मन भेद नहीं है। वही ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कैबिनेट मंत्री तुलसी सिलावट के बंगले पर कांग्रेस विधायको, मंत्रियों और नेताओं को डिनर पार्टी भी दी है। जिसमें उन्होनें मुख्यमंत्री कमलनाथ सहित दिग्विजय सिंह को भी आमंत्रिक किया है। सिंधिया की इस डिनर पार्टी को राजनीतिक विश्लेषक उनका नाम राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में चलने को लेकर बताते है। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पार्टी अध्यक्ष के लिए युवा चेहरे की बात कही थी। वही भोपाल पहुंचे सिंधिया ने भी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए एक उर्जावन चेहरे की बात कही है साथ ही डिनर डिप्लोमेसी के जरिए अपना शक्ति प्रदर्शन कर राष्ट्रीय अध्यक्ष के लिए दावेदारी पेश करने से नहीं चूकना चाहते।



 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video