मध्य प्रदेश में भाजपा की दूसरी सूची जारी, 2 मौजूदा सांसदों के कटे टिकट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 29, 2019   16:15
मध्य प्रदेश में भाजपा की दूसरी सूची जारी, 2 मौजूदा सांसदों के कटे टिकट

दूसरी सूची में भाजपा ने बालाघाट के सांसद बोध सिंह भगत एवं खरगोन के सांसद सुभाष पटेल को दोबारा टिकट नहीं दिया है। इनके स्थान पर बालाघाट से ढाल सिंह बिसेन एवं खरगोन से गजेन्द्र पटेल को पार्टी ने अपना प्रत्याशी बनाया है।

भोपाल। भाजपा ने मध्य प्रदेश की तीन और लोकसभा सीटों के लिए शुक्रवार को अपने प्रत्याशियों की सूची जारी की जिसमें पार्टी ने अपने मौजूदा दो सांसदों का टिकट काट दिया है। इससे पहले 23 मार्च को जारी अपनी 15 प्रत्याशियों की पहली सूची में भाजपा अपने पांच मौजूदा सांसदों का टिकट काट चुकी है। अब तक पार्टी ने मध्य प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों में से 18 सीटों पर अपने प्रत्याशियों का ऐलान कर अपने मौजूदा सात सांसदों के टिकट काटे हैं।

दूसरी सूची में भाजपा ने बालाघाट के सांसद बोध सिंह भगत एवं खरगोन के सांसद सुभाष पटेल को दोबारा टिकट नहीं दिया है। इनके स्थान पर बालाघाट से ढाल सिंह बिसेन एवं खरगोन से गजेन्द्र पटेल को पार्टी ने अपना प्रत्याशी बनाया है। पार्टी ने राजगढ़ के मौजूदा सांसद रोडमल नागर पर फिर से भरोसा जताते हुए उन्हें उसी सीट से अपना उम्मीदवार घोषित किया है। 

इसे भी पढ़ें: 300 से ज्यादा सीटें जीतेगी भाजपा, गडकरी बोले- मैं PM की रेस में नहीं हूं

पहली सूची में जिन मौजूदा पांच सांसदों का टिकट काट दिया गया था, उनमें पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के भानजे अनूप मिश्रा (मुरैना), भिण्ड के सांसद डॉभागीरथ प्रसाद, शहडोल से सांसद ज्ञान सिंह, उज्जैन से सांसद प्रो. चिन्तामणि मालवीय एवं बैतूल से सांसद ज्योति धुर्वे शामिल थे। मध्य प्रदेश में चार चरणों में 29 अप्रैल, 6 मई, 12 मई एवं 19 मई को मतदान होना है। वर्तमान में मध्य प्रदेश की 29 लोकसभा सीटों में से 26 पर भाजपा का कब्जा है, जबकि 3 सीटें कांग्रेस के पास हैं। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।