भुवनेश्वर में सीरो सर्वेक्षण का दूसरा चरण शुरू, 1500 नमूने किए जाएंगे एकत्रित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 28, 2020   17:19
भुवनेश्वर में सीरो सर्वेक्षण का दूसरा चरण शुरू, 1500 नमूने किए जाएंगे एकत्रित

एक अधिकारी ने बताया कि इस सर्वेक्षण से समुदाय में संक्रमण के स्तर का पता चलेगा क्योंकि पहले सर्वेक्षण के दौरान संक्रमण दर काफी कम दर्ज की गयी थी।

भुवनेश्वर। भुवनेश्वर में इस महीने कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के मद्देनजर भुवनेश्वर नगर निगम ने कोविड-19 के खिलाफ लोगों में प्रतिरोधक क्षमता का पता लगाने के लिए सीरो सर्वेक्षण का दूसरा चरण शुरू किया है। एक अधिकारी ने बताया कि शहर के विभिन्न इलाकों से पांच टीमें 1,500 नमूने जमा करेंगी। उन्होंने कहा, ‘‘इस सर्वेक्षण से समुदाय में संक्रमण के स्तर का पता चलेगा क्योंकि पहले सर्वेक्षण के दौरान संक्रमण दर काफी कम दर्ज की गयी थी।’’ क्षेत्रीय चिकित्सा अनुसंधान केंद्र (आरएमआरसी) को शहर में दो दिन होने वाले इस सर्वेक्षण के लिए बीएमसी तकनीकी सहायता मुहैया करा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: नए सीरो सर्वे में खुलासा, 29 % लोगों में कोरोना से लड़ने वाली एंटीबॉडी विकसित 

आरएमआरसी के साथ काम कर रहे एक वैज्ञानिक डॉक्टर जयसिंह खत्री ने बताया, ‘‘पहले चरण में 900 नमूने जमा किए गए और इस शहर में सामुदायिक स्तर पर सापेक्षिक तौर पर प्रतिरोधक क्षमता काफी कम दर्ज की गयी, हो सकता है कि राजधानी में बड़े स्तर पर महामारी का प्रसार नहीं हुआ हो।’’ सीरो सर्वेक्षण जनसख्या या समुदाय में संक्रमण के प्रसार के आकलन के लिए किया जाता है ताकि यह पता चल सके कि क्या लोगों के शरीर में वायरस के खिलाफ एंटिबॉडिज है या नहीं। 

इसे भी पढ़ें: पुणे में 51.5 फीसदी नमूनों में कोरोना से लड़ने के लिए एंटीबॉडी मौजूद: सीरो सर्वेक्षण 

नया सर्वेक्षण इसका पता लगाने में भी कारगर होगा कि पहले वाले सीरो सर्वेक्षण के दायरे में आए लोगें की प्रतिरोधक क्षमता में कोई बदलाव आया है या नहीँ। पहला सर्वेक्षण चार सप्ताह पहले हुआ था। भुवनेश्वर में बृहस्पतिवार तक संक्रमण के 8,647 मामले आए हैं और अभी 3,478 मरीजों का इलाज चल रहा है। वहीं 36 लोगों की मौत हो चुकी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।