जम्मू-कश्मीर: आम नागरिकों की हत्या का सुरक्षाबलों ने लिया बदला, 13 आतंकवादियों को किया नेस्तनाबूत

जम्मू-कश्मीर: आम नागरिकों की हत्या का सुरक्षाबलों ने लिया बदला, 13 आतंकवादियों को किया नेस्तनाबूत

जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने कहा कि पाकिस्तान प्रायोजित तत्व इस केन्द्र शासित प्रदेश में बन रहे शांतिपूर्ण माहौल को बिगाड़ने और सामान्य जनजीवन को अस्त-व्यस्त करने के प्रयास कर रहे हैं।

आतंकियों द्वारा घाटी में आम लोगों को निशाना बनाए जाने की घटना के बाद वहां हुए अलग-अलग मुठभेड़ों में 13 आतंकवादी मारे गए हैं। कश्मीर के आईजीपी विजय कुमार ने बताया कि नागरिक हत्याओं के बाद 9 मुठभेड़ों में 13 आतंकवादी मारे गए। श्रीनगर के 5 में से 3 आतंकवादियों को हमने 24 घंटे से भी कम समय में ढेर कर दिया है। इसके अलावा जम्मू कश्मीर में सेना के सात जवानों की हत्या करने में शामिल आतंकवादियों का पता लगाने के लिए पुंछ और राजौरी जिलों के वन्य क्षेत्रों में चलाया जा रहा सघन तलाशी अभियान शनिवार को छठे दिन भी जारी है।

गौरतलब है कि जम्मू-कश्मीर में पिछले हफ्ते अलग-अलग घटनाओं में आतंकवादियों ने आम नागरिकों को निशाना बनाया था। इससे पहले जम्मू कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) दिलबाग सिंह ने कहा कि पाकिस्तान प्रायोजित तत्व इस केन्द्र शासित प्रदेश में बन रहे शांतिपूर्ण माहौल को बिगाड़ने और सामान्य जनजीवन को अस्त-व्यस्त करने के प्रयास कर रहे हैं। उन्होंने सुरक्षा स्थिति तथा आतंकवादियों एवं सीमापार के उनके आकाओं के विध्वंसक कृत्यों से निपटने के लिए सामूहिक उपायों पर बल दिया। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद विरोधी सेना का अभियान, अब तक 7 जवान शहीद, लश्कर के कमांडर को घेरा

आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में नागरिकों पर बढ़े हमलों के बीच श्रीनगर के ईदगाह इलाके में को आतंकवादियों ने एक महिला प्रधानाध्यापक समेत सरकारी विद्यालय के दो शिक्षकों की गोली मार कर हत्या कर दी थी। कश्मीर घाटी में संदिग्ध आतंकवादियों ने 90 मिनट के भीतर तीन लोगों की गोली मारकर हत्या कर दी। यहां इकबाल पार्क क्षेत्र में श्रीनगर की प्रसिद्ध फार्मेसी के मालिक माखनलाल बिंदरू की उनके व्यावसायिक परिसर में गोली मारकर हत्या कर दी गई।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।